Breaking News

Top News

इस गांव में 13 साल से बंद थे स्कूल के दरवाजे, अब लौटी रौनक   

Share Now

सीजी न्यूज रिपोर्टर। सुकमा

नक्सलवाद की दहशत से थर्राते जगरगुंडा गांव के स्कूल के दरवाजे 13 साल से बंद थे। यहां प्राइमरी, मिडिल और हाई स्कूलों का संचालन नहीं हो रहा था। 2006 में सलवा जुडूम आंदोलन शुरू होने के बाद आसपास के कई गांवों के साथ जगरगुंडा भी वीरान हुआ। यहां के निवासी सलवा जुडूम के राहत शिविर में रहने लगे। यहां के स्कूलों की रौनक खत्म हो गई। स्कूलों के दरवाजे बंद हो गए। तब से यहां वीरानी छाई रही।

जगरगुंडा सुकमा जिले का सर्वाधिक नक्सल प्रभावित इलाका माना जाता है। वर्ष 2006 में नक्सल विरोधी अभियान सलवा जूडूम के दौरान नक्सलियों ने जगरगुंडा सहित जिले के कई स्कूलों और शासकीय भवनों को  नष्ट कर दिया। इन भवनों में भारी संख्या में सुरक्षा बलों के तैनात होने के कारण नक्सलियों ने इन भवनों को नष्ट किया। ज्यादातर भवन बेहद खस्ताहाल हो गए।

सलवा जूडूम अभियान से पहले जगरगुंडा में हाईस्कूल तक शिक्षा की व्यवस्था थी। उस समय जगरगुंडा में बैंक का संचालन भी हो रहा था। जगरगुंडा के पास सलवा जूडूम शिविर शुरू होने के बाद लगभग 13 वर्षों से माध्यमिक और हाई स्कूल का संचालन बंद कर दिया गया। इलाके के विद्यार्थी नजदीकी पोटाकेबिन में पढ़ते थे।

नए शिक्षण सत्र के पहले दिन सोमवार को यहां के वीरान स्कूलों में बच्चों की रौनक लौट आई। उद्योग मंत्री कवासी लखमा की उपस्थिति में पांच शैक्षणिक संस्थाओं, छात्रावास का संचालन दोबारा शुरू किया गया। लखमा ने जगरगुंडा में हाईस्कूल, हायर सेकेंडरी स्कूल, बालक आश्रम शाला, बालक और कन्या छात्रावास का शुभारंभ किया। इस दौरान हुए कार्यक्रम में लखमा ने कहा कि जगरगुंडा में 13 साल बाद दोबारा स्कूलों का संचालन शुरू होने से यहां के विद्यार्थियों का भविष्य संवारने में मदद मिलेगी।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने शिक्षा के अधिकार के तहत अब कक्षा 9 से 12वीं कक्षा तक मुफ्त शिक्षा की व्यवस्था की है। क्षेत्र के विद्यार्थियों को कक्षा पहली से 12वीं तक निशुल्क और अनिवार्य शिक्षा का लाभ मिलेगा। जगरगुण्डा क्षेत्र के बच्चे स्कूली शिक्षा पूर्ण करने के बाद उच्च शिक्षा के लिए देश के उच्च शिक्षा संस्थानों में प्रवेश कर सकेंगे। इस दौरान कलेक्टर चंदन कुमार सहित जिले के विभिन्न विभागों के अधिकारी और स्थानीय जनप्रतिनिधि उपस्थित थे। बच्चों को यूनिफार्म और पुस्तकों का वितरण भी किया गया।

-0-