Breaking News

Top News

डीजीपी बोले, जुर्माना वसूलने से बड़ी है लोगों की जान की कीमत, तेज गति से वाहन चलाने वालों पर सख्त कार्रवाई करें

Share Now

  • लोगों को दुर्घटनाओं से बचाने हर जिले में लगेंगे स्पीड रडार

राज्य के डीजीपी डीएम अवस्थी ने कहा है कि जुर्माना वसूलने से ज्यादा जरूरी दुर्घटना से होने वाली मौतों में कमी लाने पर जोर दिया। नवा रायपुर स्थित पुलिस मुख्यालय में प्रदेश के सभी जिलों के यातायात प्रभारियों की समीक्षा बैठक में डीजीपी ने पिछले साल प्रदेश भर में सड़क दुर्घटनाओं में हुई 4 हजार 9 सौ 56 मौतों पर कड़ी नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि लोगों की जान की कीमत जुर्माने से बड़ी है। यातायात प्रभारियों की जिम्मेदारी है कि सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाएं। तेज गति वाहनों पर सख्त कार्रवाई करें।

अवस्थी ने कहा कि एक माह के भीतर यातायात प्रभारी, जिला बल के साथ ट्रैफिक व्यवस्था को दुरुस्त करें। उन्होंने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति की जान की कीमत उसके परिवार के लिए बहुमूल्य है। ट्रैफिक पुलिस का कार्य ट्रैफिक व्यवस्था को सुधार कर लोगों को दुर्घटनाओं से बचाना है। लोगों को दुर्घटनाओं से बचाने के लिए हर जिले में स्पीड रडार लगाएं। तेज गति से वाहन चलाने वाले वाहन चालकों पर सख्त कार्रवाई करें।

डीजीपी ने कड़ी हिदायत देते हुए कहा कि कार्रवाई का उद्देश्य लोगों को दुर्घटनाओं से बचाना होना चाहिए, ना कि जुर्माना वसूलना। रात से सुबह तक स्पेशल पेट्रोलिंग कर तेज गति के वाहनों पर नियंत्रित करें। हर माह यातायात प्रभारियों की समीक्षा की जाएगी। जिसमें बिंदुवार समीक्षा कर जिम्मेदारी तय की जाएगी। अच्छा कार्य होने पर पुरस्कृत किया जाएगा। लापरवाही पाए जाने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। समीक्षा बैठक में डीआईजी मयंक श्रीवास्तव, संजय शर्मा उपस्थित थे।