Breaking News

Top News

महापौर पद के 2 दावेदारों ने बगावत के संकेत दिए, क्रास वोटिंग से पार्षदों का संख्याबल जुटाने कैश के साथ एमआईसी मेंबर बनाने का प्रलोभन भी, 3 भाजपा पार्षद भी संपर्क में है

Share Now

सीजी न्यूज डॉट कॉम

दुर्ग नगर निगम में महापौर पद के लिए दावेदारी करने वाले दो कांग्रेस पार्षदों ने बगावत के संकेत दे दिए हैं। महापौर पद के लिए कांग्रेस पार्टी से प्रत्याशी घोषित न होने पर इन दावेदारों ने अपने समर्थक पार्षदों को क्रास वोटिंग के लिए तैयार रहने कहा है। इन पार्षदों का दावा है कि कांग्रेस के कई कांग्रेस पार्षदों समेत निर्दलीय पार्षदों ने समर्थन देने का वादा किया है। एक दावेदार के सहयोगी ने तो यहां तक दावा किया है कि भाजपा के तीन पार्षद भी उनके पक्ष में क्रास वोटिंग करेंगे।

एक महीने पहले कांग्रेस पार्टी के प्रति निष्ठा जताते हुए पार्षद प्रत्याशी बनाने की गुहार लगाने वाले 30 पार्षदों में से कई पार्षदों के तेवर बदल गए हैं। चुनाव जीतने के बाद कई पार्षदों की निष्ठा बदलने लगी है। पार्टी के प्रमुख नेताओं की बजाय कई पार्षद बगावत के संकेत देने वाले दावेदारों के संपर्क में हैं। इन्हीं पार्षदों से मिलने वाले समर्थन के कारण बगावती तेवर अपनाने वाले दावेदार के समर्थक जरूरी संख्याबल जुटा लेने का दावा कर रहे हैं।

अंदरखाने की खबरों के अनुसार कांग्रेस के दो दावेदारों ने इशारों-इशारों में अपने वरिष्ठ नेताओं तक यह संदेश पहुंचा दिया है कि उन्हें प्रत्याशी न बनाने पर उनके सामने बगावत का रास्ता खुला है। सूत्रों ने बताया कि कांग्रेस और निर्दलीय पार्षदों से संपर्क साधने के बाद एक दावेदार ने कई पार्षदों से बातचीत का एक दौर पूरा कर लिया है। पार्टी से प्रत्याशी न बनाने पर वे बगावत करेंगे। इसके लिए पार्षदों को कैश के साथ मनचाहे विभाग का एमआईसी मेंबर बनाने का आश्वासन दिया जा रहा है।

एक दावेदार के लिए लॉबिंग करने वाले कांग्रेस नेता ने बताया कि  महापौर चुनाव से पहले हर पार्षद को 2 लाख रुपए का भुगतान किया जाएगा। महापौर बनने के बाद इन पार्षदों को लुभावना ऑफर दिया गया है।  सूत्र ने इस आफर का खुलासा नहीं किया। क्रास वोटिंग के लिए दूसरे दावेदार ने जरूरी संख्याबल के लिए पार्षदों को 3 लाख से 10 लाख रुपए तक का ऑफर दिया है। 3 निर्दलीय पार्षदों ने 10 लाख के ऑफर को नकार दिया है। वे इससे दोगुना राशि की डिमांड कर रहे हैं। महापौर बनाने के लिए खजाना खोलने तैयार बैठे दावेदार के भाई का कहना है कि हर हाल में महापौर की सीट हासिल करना हमारा टार्गेट है। सभी जरूरी तैयारियां पूरी हो गई हैं।

भाजपा प्रत्याशियों समेत कई निर्दलीय प्रत्याशियों को दिया था चुनाव खर्च  

सूत्रों के अनुसार एक दावेदार ने भाजपा के 3 पार्षदों को पार्षद चुनाव के दौरान फंड दिया था। विधानसभा चुनाव हार चुके एक कांग्रेस नेता के माध्यम से भाजपा प्रत्याशियों तक चुनाव खर्च की राशि पहुंचाई गई। इस कांग्रेस नेता ने 20 कांग्रेस प्रत्याशियों और 7 निर्दलीय प्रत्याशियों को भी चुनाव खर्च दिया। सभी कांग्रेस प्रत्याशियों को चुनाव खर्च नहीं दिया गया। उस समय दिए गए फंड की एवज में अब महापौर पद के लिए समर्थन जुटाया जा रहा है। पूर्व में हुए भुगतान के अलावा क्रास वोटिंग के लिए और कैश दिया जाएगा। 6 जनवरी को प्रत्याशी घोषित होने के बाद इस रणनीति पर काम शुरू होगा। प्रत्याशी घोषित होने के बाद धनबल और प्रलोभन का असली खेल शुरू होगा।