Breaking News

Top News

एमआईसी की सूची फाइनल करने से पहले महापौर ने विधायक समेत अन्य कांग्रेस नेताओं से मंत्रणा की

Share Now

शहर की सरकार में 12 मंत्री बनने 16 से ज्यादा पार्षद हैं प्रबल दावेदार, सभी चाहते हैं मनचाहा विभाग 

सीजी न्यूज डॉट कॉम

एमआईसी का गठन करने से पहले महापौर धीरज बाकलीवाल ने कांग्रेस नेताओं से मार्गदर्शन लिया। सोमवार को दोपहर 12 बजे से महापौर कक्ष में बाकलीवाल ने विधायक अरूण वोरा सहित कई प्रमुख कांग्रेस नेताओं ने एमआईसी की लिस्ट और विभागों के वितरण पर अंतिम बार मंत्रणा की। करीब डेढ़ घंटे तक चली मंत्रणा के बाद एमआईसी की लिस्ट फाइनल करने का फैसला किया गया। कुछ ही देर में एमआईसी सदस्यों की घोषणा कर दी जाएगी।

आज एमआईसी की घोषणा से पहले निगम सभापति राजेश यादव, पूर्व महापौर शंकर लाल ताम्रकार, आरएन वर्मा, पूर्व उपमहापौर गया पटेल, भंवरलाल जैन, राधेश्याम शर्मा सहित अन्य कांग्रेस नेता मौजूद थे। एमआईसी की लिस्ट फाइनल होने के बाद शहर के कई कांग्रेस नेता महापौर कक्ष में पहुंच गए। कांग्रेस नेता राकेश शर्मा, मदन जैन, ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष अलताफ अहमद, अजय मिश्रा, राजकुमार पाली, अंशुल पांडेय, संदीप श्रीवास्तव सहित कई पार्षद निगम कार्यालय पहुंच गए।

एमआईसी के 12 विभागों के लिए कई वरिष्ठ पार्षद दावेदारी कर रहे थे। एमआईसी प्रभारी बनने के साथ ही वरिष्ठ पार्षद पसंदीदा विभाग के लिए भी लगातार दबाव बना रहे थे। पिछले एक हफ्ते में तीन बार बैठकों के बाद रविवार की सुबह विधायक अरूण वोरा की मौजूदगी में एमआईसी के गठन पर विचार विमर्श किया गया। इसके बाद शाम को दूसरी बार बैठक हुई। सोमवार को तीसरी बार अंतिम रूप से चर्चा के बाद एमआईसी की लिस्ट फाइनल कर ली गई।

आपको बता दें कि कई विभागों को लेकर हो रही जोड़तोड़ के कारण अंतिम फैसला लेने में लगातार देर होती रही। कई वरिष्ठ पार्षद पीडब्लूडी (लोक कर्म विभाग), राजस्व एवं बाजार विभाग का प्रभारी बनने के लिए अड़े रहे। ये विभाग न मिलने पर जलकार्य विभाग और स्वास्थ्य विभाग के लिए भी कई पार्षदों ने दबाव बनाया। ज्यादातर एमआईसी दावेदार वित्त विभाग, शिक्षा विभाग, संस्कृति पर्यटन विभाग और पर्यावरण उद्यानिकी विभाग लेने में टालमटोल कर रहे थे। लगातार दबाव के कारण एमआईसी का गठन करने में काफी मशक्कत करना पड़ा।