Breaking News

चुनाव नतीजों के बाद भाजपा में दोबारा शुरू होगा कोल्डवॉर

रायपुर। लोकसभा चुनाव के नतीजे के बाद भाजपा में क्या दोबारा कोल्ड वार शुरू होगा? यह सवाल राजनीतिक क्षेत्रों में तेजी से गरमाने लगा है। कयास लगाए जा रहे हैं कि विधानसभा चुनाव की तरह लोकसभा चुनाव में भी कांग्रेस की एकतरफा जीत होगी। राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि किसानों ने कांग्रेस को थोक में वोट दिया है। लिहाजा छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की जबर्दस्त जीत तय मानी जा रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 11 में से 11 सीटें जीतने का दावा कर रहे हैं। इधर, भाजपा नेताओं को उम्मीद है कि 11 में से कम से कम 4 सीटों पर जीत मिल सकती है।
विधानसभा चुनाव के घोषणा पत्र में कांग्रेस ने कर्ज माफी, किसानों से 25 सौ रुपए प्रति क्विंटल की दर से धान खरीदी और हाफ बिजली बिल का वादा किया था। इन्हीं वादों के कारण कांग्रेस की एकतरफा जीत हुई है। भूपेश बघेल ने पदभार संभालने के चंद घंटे में ही इन घोषणाओं को न सिर्फ लागू कर दिया, बल्कि यह संदेश भी दे दिया कि यह सरकार किसानों की सरकार है। प्रदेश का समग्र विकास करने के साथ ही किसानों को समृद्ध करना इस सरकार का उद्देश्य रहेगा।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की इसी नीति ने पूरे प्रदेश के किसानों का मन मोह लिया। सूत्रों की मानें तो ग्रामीण इलाकों में किसानों ने आम चुनाव में एकतरफा समर्थन दिया है। विधानसभा चुनाव में जबर्दस्त पराजय के बाद भाजपा अब तक उबर नहीं पाई है। लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा नेताओं के तेवर ढीले रहे। पिछले 6 महीने में भाजपा नेताओं के बीच आरोप-प्रत्यारोप और कलह भी बढ़ रहा है।
अब चुनाव नतीजों की संभावनाओं के साथ ही भाजपा में दोबारा कलह बढ़ने की संभावना जताई जा रही है। विधानसभा चुनाव के बाद सरकार में कद्दावर मंत्री रहे बृजमोहन अग्रवाल के समर्थकों ने हार का ठीकरा पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह और प्रदेश अध्यक्ष धरम कौशिक पर फोड़ा था। भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने भी रमन सिंह के पर कतर दिए। लोकसभा चुनाव में रमन सिंह के सांसद पुत्र अभिषेक सिंह को टिकट न देने के साथ ही उन्हें चुनाव प्रचार से भी दूर रखा गया।
पुत्र और दामाद के खिलाफ लगे हैं भ्रष्टाचार के आरोप
डॉ. रमन सिंह के पुत्र पूर्व सांसद अभिषेक सिंह और उनके दामाद डॉ. पुनीत गुप्ता पर भ्रष्टाचार के गंभीर आऱोप लगे हैं। डीकेएस सुपर स्पेशलिटी हास्पिटल में सामग्री खरीदी में करोड़ों के भ्रष्टाचार में डॉ गुप्ता पुलिस थाने और कोर्ट के चक्कर काट रहे हैं। दूसरी ओर अगास्ता हेलीकॉप्टर खरीदी मामले में अभिषेक सिंह पर भ्रष्टाचार के साथ ही विदेशों में बैंक खाते का मामला सुर्खियों में रहा है। इन आरोपों के कारण पिछले 15 साल से भाजपा का लोकप्रिय चेहरा रहे डॉ रमन सिंह का राजनीतिक कैरियर पर दांव पर है। विधानसभा चुनाव में करारी शिकस्त का ठीकरा उनके सिर फूटा। राजनीतिक कद घटने की वजह भी यही रही। लोकसभा चुनाव में पराजय का वही सिलसिला दोबारा होने पर रमन सिंह का कद और घटेगा। रमन के खिलाफ मुहिम और तेज होगी। यानी रमन सिंह और पार्टी में उनके विरोधियों के बीच कलह फिर तेज होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

स्टीकर लगे फलों की बिक्री, स्टोरेज पर प्रतिबंध

खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग ने राज्य में स्टीकर लगे फलों की बिक्री पर प्रतिबंध ...