Breaking News

Top News

साढ़े 5 घंटे की मैराथन जनचौपाल में सीएम ढाई हजार से ज्यादा लोगों से मिले, इलाज की व्यवस्था से लेकर उच्च शिक्षा की फीस सहित दूसरी समस्याओं के लिए दी सहायता, दिव्यांगों की तकलीफ सुनने खुद चले आए भूपेश

Share Now

कई जिलों के आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं के प्रतिनिधिमंडल ने मानदेय बढ़ाने पर खुशी जताते हुुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को जनचौपाल में धन्यवाद दिया।

सीजी न्यूज रिपोर्टर

सीएम हाउस में बुधवार को जनचौपाल भेंट मुलाकात कार्यक्रम करीब साढ़े 5 घंटे तक चला। प्रदेश के अलग अलग हिस्से से आए ढाई हजार से ज्यादा लोगों ने सीएम से रूबरू मुलाकात की। 1179 लोगों ने व्यक्तिगत और 89 प्रतिनिधि मंडलों में 1371 लोगों ने सीएम से मुलाकात की। ज्यादातर लोगों ने सीएम को अपनी समस्याएं बताई। समस्याएं सुनने के बाद सीएम ने संबंधित विभागों के अफसरों को कार्रवाई करने के निर्देश दिए। दूसरी ओर प्रदेश सरकार के अच्छे फैसलों पर के लिए मुख्यमंत्री को धन्यवाद देने भी काफी लोग पहुंचे।
जनचौपाल में डायवर्सन के प्रकरणों का निबटारा न होने की कई समस्याएं मिलने पर मुख्यमंत्री ने शिकायतों को गंभीरता से लिया। उन्होंने सभी जिलों में डायवर्सन के लंबित प्रकरणों की जानकारी मांगने और प्रकरणों का निबटारा होने की स्थिति की मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिए। उन्होंने हर हफ्ते ऐसे प्रकरणों के निराकरण की समीक्षा करने के निर्देश दिए हैं।

दो महिला बंदियों की बेटियों की शिक्षा का इंतजाम हुआ, सीएम ने बच्चियों के कंधे पर स्कूल बैग लटकाया

जन चौपाल भेंट मुलाकात कार्यक्रम में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्रीय जेल रायपुर की दो महिला बंदियों की नन्हीं बच्चियों से मुलाकात की। अपने हाथों से बच्चियों के कंधे पर स्कूल का बैग लटकाया। उपहार और शैक्षणिक सामग्री भेंट करते हुए स्कूल के लिये रवाना किया। केंद्रीय जेल रायपुर में महिला बिंदयों के साथ रहने वाली नन्हीं बच्चियों की जानकारी मिलने के बाद मुख्यमंत्री के निर्देश पर कलेक्टर ने इन बालिकाओं के शैक्षणिक पुनर्वास की जिम्मेदारी ली। बच्चियों का एडमिशन जिले के एक प्राइवेट आवासीय विद्यालय में कराया है। विद्यालय प्रबंधन ने इन बालिकाओं के रहने और शिक्षा की जिम्मेदारी ली है। मुख्यमंत्री ने बालिकाआंे को उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं देने के साथ ही विद्यालय के पदाधिकारियों को इस पुनीत कार्य के लिए धन्यवाद दिया है।

जरूरतमंद मरीजों को इलाज के लिए सहायता

जनचौपाल कार्यक्रम में कई जरूरतमंद मरीजों को इलाज के लिए सहायता राशि मंजूर की गई। रायपुर जिले के आरंग ब्लॉक के केसला गांव से आए दिव्यांग युवक भागवत निषाद के पिता चेतन निषाद के लीवर का इलाज कराने  मुख्यमंत्री ने संजीवनी कोष से आर्थिक सहायता का के लिए प्रकरण तैयार करने के निर्देश दिए। रायपुर के गुढ़ियारी मोहल्ला निवासी अनुज जायसवाल को सिकलिंग के इलाज के लिए 10 हजार रूपए की सहायता राशि मंजूर की। जशपुर जिले के कांसाबेल विकासखंड के टांगरगांव से आए बेनुराम और देवरी की दुलोबाई को इलाज के लिए पांच-पांच हजार रूपए की सहायता राशि मंजूर की।

सद्गुरू सतनाम फिल्म निर्माण करने 5 लाख रुपए मंजूर

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से जन चौपाल कार्यक्रम में सतनामी समाज रायपुर के प्रतिनिधमंडल की मांग पर छत्तीसगढ़ के महान संत गुरु गुरुघासीदास की जीवनी पर आधारित फिल्म सदगुरू सतनाम के निर्माण के लिए 5 लाख रुपए की राशि स्वेच्छानुदान मद से स्वीकृत की। प्रतिनिधिमंडल में केपी खंडे, डॉ जेआर सोनी, बीएस पात्रे , बबलू त्रिवेंद्र और सुंदर जोगी उपस्थित थे।

कुमारी रितु की फीस के लिए दिए पचास हजार रुपए

मुख्यमंत्री ने जन चौपाल कार्यक्रम में दुर्ग जिले के तरीघाट के गरीब परिवार की छात्रा कुमारी रितु खुटियारे को इंजीनियरिंग की पढ़ाई जारी रखने 50 हजार रुपए की स्वीकृति स्वेच्छानुदान मद से दी। रितु के पिता हीरामन खुटियारे ने कमजोर आर्थिक स्थिति की जानकारी देते हुए बताया कि उनकी बेटी रितु रायपुर के प्रोफेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेकनॉलोजी में बीई तृतीय वर्ष की छात्रा हैं। मुख्यमंत्री से तत्काल सहायता राशि स्वीकृत होने पर पिता और बेटी ने मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया और खुशी-खुशी वापस लौटे।

दिव्यांगों के बीच पहुंचे मुख्यमंत्री, सुनी समस्याएं

जनचौपाल में मिलने आए लोगों को उस समय आश्चर्य हुआ जब मुख्यमंत्री खुद चलकर दिव्यांगों के बीच पहुंचे। उनके आवेदन लेने के बाद समस्याएं सुनी। सीएम हाउस में दिव्यांगों के लिए अलग से रजिस्ट्रेशन और बैठने की व्यवस्था की गई थी। दिव्यांगों को मुख्यमंत्री निवास के भीतर लाने ले जाने तिपहिया सायकिल भी उपलब्ध कराया गया। जनचौपाल में उपस्थित लोगों ने सीएम की संवेदनशीलता की सराहना की।