Breaking News

Top News

बस्तर में लगातार बारिश से इंद्रावती, शबरी नदी उफान पर, सीएम ने बस्तर कमिश्नर से फोन पर हालात की जानकारी ली, सतर्कता और बचाव की सभी तैयारियां करने दिए निर्देश

Share Now

सीजी न्यूज रिपोर्टर

बस्तर संभाग में पिछले दो दिनों से लगातार हो रही बारिश के कारण नदी नाले उफान पर हैं। यहां के कई इलाकों में बाढ़ की नौबत आ गई है। मुख्यमंक्षी भूपेश बघेल ने सोमवार को बस्तर संभाग के कमिश्नर से फोन पर बात की और हालात की जानकारी लेने के बाद सभी जिलों के कलेक्टरों को स्थिति पर नजर रखने के निर्देश दिए। विपरीत परिस्थितियों से निबटने के लिए सतर्कता और बचाव की तैयारी रखने कहा है।

मुख्यमंत्री ने आज बस्तर संभाग के कमिश्नर अमृत खलखो से फोन पर बस्तर में बारिश के कारण उपजे हालात की जानकारी ली। बारिश से प्रभावित क्षेत्रों की जानकारी लेने के बाद सीएम ने कमिश्नर से कहा कि वे बाढ़ नियंत्रण कक्ष के साथ-साथ सभी संबंधित विभागों के अधिकारियों को लगातार सचेत रखने और स्थिति पर नियंत्रण रखने का कार्य  सुनिश्चित करें। बाढ़ से प्रभावित होने वाले नदी-नालों के किनारे संवेदनशील क्षेत्रों और निचले इलाकों में जरूरत पड़ने पर राहत शिविर लगाने की तैयारी करने के निर्देश भी दिए।

मुख्यमंत्री ने राज्य आपदा प्रबंधन बल सहित प्रभावित जिलों के जिला पुलिस बल, होमगार्ड, राजस्व विभाग, स्वास्थ्य विभाग, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, विद्युत विभाग, लोक निर्माण, खाद्य विभाग, नगरीय निकायों, बीएसएनएल के अधिकारियों को भी सचेत एवं सतर्क रहने को कहा है। बस्तर संभागायुक्त ने बताया कि उड़ीसा और बस्तर क्षेत्र में भारी बारिश से इन्द्रावती नदी का जलस्तर बढ़ रहा है। बस्तर जिले में सुबह 11 बजे वॉर्निग लेवल तक जल स्तर आ चुका है और वहां बाढ़ का खतरा लगातार बढ़ रहा है।

बाढ़ की संभावना वाले क्षेत्रों और निचले इलाकों में रहने वालों के घर खाली कराए जा रहे हैं। राहत शिविरों की व्यवस्था कर ली गई है। बाढ़ से प्रभावित होने वाले शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में नागरिकों को सतर्क रखने लगातार मुनादी की जा रही है। प्रभावित क्षेत्रों में स्कूलों में अवकाश घोषित करने के निर्देश दिए गए है। राष्ट्रीय राजमार्ग और अन्य मार्गों पर कई जगहों पर पुल के उपर पानी बह रहा है। ऐसे स्थानों पर नजदीकी गांवों में राहत शिविर खोलकर यात्रियों को जरूरी सहायता उपलब्ध कराया जा रहा है।

इन्द्रावती नदी के निचले इलाकों के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के निर्देश

बस्तर जिले में 28 जुलाई से लगातार के कारण उपजे हालातों को देखते हुए जिला प्रशासन ने चेतावनी जारी की है। ओडीसा में इन्द्रावती नदी के कैचमेंट एरिया में भारी बारिश होने के कारण बस्तर जिले में बाढ़ की संभावना है। कलेक्टर डॉ अय्याज तम्बोली ने सभी संबंधित विभागांे को इन्द्रावती नदी के निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों पर सुरक्षित पहुंचाने के निर्देश दिए हैं। राष्ट्रीय राजमार्ग और अन्य मार्गों के अवरूद्ध होने की संभावना को देखते हुए आम नागरिकों से अपने प्रवास स्थगित रखने की अपील की है। लगातार बारीश के कारण कलेक्टर के निर्देश पर 29 जुलाई को जिले के सभी शासकीय, अर्द्धशासकीय और निजी स्कूलों में अवकाश रखा गया। जिले के बकावण्ड, जगदलपुर और बस्तर क्षेत्र बाढ़ से ज्यादा प्रभावित  हैं।

सुकमा जिले में अब तक 708.1 मिमी औसत वर्षा दर्ज

जिले में एक जून 2019 से अब तक कुल 708.1 मि.मी औसत वर्षा रिकार्ड की जा चुकी है। पिछले 24 घंटे के दौरान सुकमा में 164.3 मिमी, छिंदगढ़ में 124.2 मिमी और कोंटा में 60.4 मिमी औसत वर्षा रिकार्ड हुई है। पिछले कई घंटों से लगातार बारिश होने के कारण नदियों का जल स्तर लगातार बढ़ रहा है। कलेक्टर चंदन कुमार ने जिले के राजस्व, पुलिस, वन विभाग सहित अन्य संबंधित विभागों के अफसरों को सतर्क, सजग और सावधान रहकर आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर ने पुलिस अधीक्षक, वन मंडलाधिकारी और सभी अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) और तहसीलदारों को सभी आवश्यक कार्रवाई करने कहा है। कलेक्टर ने केन्द्रीय रिजर्व बल के उपमहानिरीक्षक को भी सूचित कर दिया है।