Breaking News

Top News

जन चौपाल में परेशानी बताने पर सीएम ने मदद के साथ आत्मीयता भरा हौसला भी दिया, लोग दुआएं देते हुए वापस लौटे, दिव्यांगों से मिलने खुद चलकर गए, बीएसपी सहित स्थानीय उद्योगों में स्थानीय युवाओं को रोजगार का आश्वासन दिया

Share Now


सीजी न्यूज रिपोर्टर
मुख्यमंत्री निवास में जनचौपाल, भेंट-मुलाकात के दौरान नागरिकों ने अपनी समस्याएं बताई। बीमारी के इलाज के लिए मदद, पढ़ाई के लिए पैसों की कमी से लेकर प्रशासनिक तंत्र की शिकायतें सुनकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने तत्काल समस्या का निराकरण किया। कई दिनों से परेशानहाल लोगों को फौरन मदद मिलने पर लोग मुख्यमंत्री को दुआएं देते हुए वापस लौटे। मुख्यमंत्री ने पीड़ितों से बातचीत करते हुए उनका हौसला बढ़ाया। जरूरतमंद लोगों को तत्काल आर्थिक सहायता दी और संजीवनी जैसी विभिन्न योजनाओं से सहायता देने के निर्देश भी दिए।
सीएम हाउस में 31 जुलाई को तीसरी बार जनचौपाल का आयोजन किया गया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के साथ कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिव कुमार डहरिया, महापौर प्रमोद दुबे ने भी नागरिकों से भेंट-मुलाकात की। सीएम ने लोगों से बातचीत करते हुए उनकी समस्याओं और कठिनाइयों को सुना। लोगों को आवश्यक कार्यवाही करने का भरोसा दिलाया। जनचौपाल में 2800 से ज्यादा लोगों ने मुख्यमंत्री से मुलाकात की। इनमें से 1367 लोगों ने व्यक्तिगत समस्याओं के आवेदन दिए। 92 प्रतिनिधिमंडलों में शामिल 1456 लोगों ने सार्वजानिक समस्याओं के सम्बन्ध में आवेदन दिया।
मुख्यमंत्री खुद चलकर एक-एक निशक्तजन के पास पहुंचे और सुनी समस्या
निशक्तजनों की सुविधा के लिए जनचौपाल में अलग शेड में बैठने की व्यवस्था की गई है। शेड में दिव्यांगों की समस्या सुनने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल खुद चलकर गए। सभी दिव्यांगों से बातचीत के बाद उनकी समस्याओं का निराकरण करने जरूरी पहल करने का आश्वासन दिया। मुख्यमंत्रीके निर्देश पर दिव्यांगों की सुविधा के लिए सीएम हाउस में अलग शेड के साथ ही वहां तक आने-जाने के लिए अलग पैसेज की व्यवस्था की गई है। व्हीलचेयर की भी व्यवस्था की गई थी। जन चौपाल में निशक्त जनों के लिए पंजीयन की भी विशेष व्यवस्था शुरू की गई है।
बीएसपी में स्थानीय युवाओं की उपेक्षा की शिकायत
भिलाई इस्पात सयंत्र में अप्रेंटिशिप कर रहे इंजीनियरिंग की अलग अलग शाखाओं के युवकों ने सीएम को बताया कि संयंत्र की भर्ती प्रक्रिया में छत्तीसगढ़ के युवाओं की उपेक्षा हो रही है। मुख्यमंत्री ने युवाओं को आश्वस्त करते हुए कहा कि जिस तरह आंध्रप्रदेश और मध्यप्रदेश में स्थानीय लोगों को भर्ती मे प्राथमिकता दी जा रही है, उसी तरह यहां भी भर्ती प्रक्रिया शुरू की जाएगी।
इलाज सहित पढ़ाई व अन्य कार्यों के लिए परेशानहाल लोगों को मिली सहायता
जनचौपाल में गले के कैंसर की बीमारी से लड़ रहे अनूप गुप्ता अपनी पत्नी और बेटी के साथ भेंट मुलाकात के लिए पहुंचे। उन्होंने बताया कि पैसों की कमी के कारण नया रायपुर के एक निजी कैंसर हॉस्पिटल में उनका इलाज नहीं हो पा रहा है। मुख्यमंत्री ने उन्हें संजीवनी योजना से लाभान्वित करने के तत्काल निर्देश देते हुए अधिकारियों को आवश्यक चिकित्सकीय सहायता देने कहा। मुख्यमंत्री ने रायपुर के न्यू दुर्गा नगर निवासी जगमोहन सोनी का निशुल्क इलाज करने के निर्देश दिए हैं। राशनकार्ड नवीनीकरण शिविर के दौरान दुर्घटनावश श्री सोनी की तीन उंगलियों में गंभीर चोट लगी थी। मुख्यमंत्री ने सोनी का निशुल्क इलाज कराने के साथ ही दुर्घटना की जांच के निर्देश भी दिए।
राजनांदगांव के तोतली भर्री से आए रामेश्वर दास मानिकपुरी ने विकलांग पेंशन के लिए आवेदन दिया। मुख्यमंत्री ने समाज कल्याण विभाग को तत्काल आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिए। जनचौपाल में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से केवटापारा रायगढ़ की नंदिनी निषाद ने जीवनयापन के लिए रोजगार और व्यवसाय करने आर्थिक सहायता की मांग की। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को शासकीय योजना के माध्यम से व्यवसाय के लिए एक लाख रुपए स्वीकृत कराने के निर्देश दिए।
रायपुर हांड़ीपारा से आए सुरेश सोनकर ने सीएम से कठिन आर्थिक समस्या की जानकारी दी। सीएम ने सुरेश सोनकर को स्वेच्छानुदान से 10 हजार रूपए स्वीकृत किए। राजधानी रायपुर में ई रिक्शा चलाकर जीवनयापन करने वाली सुमन साहू को भी सीएम ने 10 हजार रुपए राशि की मंजूरी दी। मुख्यमंत्री ने धमतरी जिले के नगरी उच्चत्तर उच्चतर माध्यमिक विद्यालय की छात्रा कुमारी सोहागा कमार को पढ़ाई के लिए 20 हजार रूपए की राशि स्वेच्छानुदान से स्वीकृत की। कमार विशेष पिछड़ी जनजाति की सोहागा कक्षा 12 वीं में पढ़ती हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री से मुलाकात कर कमार जनजाति के बच्चों के लिए अनुदान देने का आग्रह किया था। जनचौपाल में मुख्यमंत्री ने गरियाबंद जिले के फिंगेश्वर की भारती कुर्रे को आंत के ऑपरेशन के लिए संजीवनी कोष से सहायता की स्वीकृति दी है।
राशन के चावल का गबन करने की शिकायत, अतिथि शिक्षक भर्ती में भी गड़बड़ी की शिकायत
कई अतिथि शिक्षकों ने अलग-अलग जिलों में अतिथि शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया में गड़बड़ी की शिकायत दर्ज कराई। अतिथि शिक्षकों ने बताया कि जिलों में विद्या मितान के रूप में काम करने वाले शिक्षकों को प्राथमिककता न दे कर अन्य लोगों की भर्ती की जा रही है। मुख्यमंत्री ने उचित जांच कर संबंधित जिला शिक्षा अधिकारियों पर सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए। रायगढ़ जिले के सारंगढ़ ब्लॉक में गोडीहारी के ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री से ग्राम पंचायत के सरपंच की शिकायत करते हुए ज्ञापन सौंपा। उन्होंने बताया कि सरपंच ने राशन के चावल का गबन किया है। विकास कार्यों में अनियमितता की शिकायत भी की गई। मुख्यमंत्री ने उनके आवेदन का परीक्षण करने रायगढ़ कलेक्टर को भेजने के निर्देश दिए।
उत्कल जन कल्याण संस्थान ने मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए राशि दी
उत्कल एकता जनकल्याण संस्था, रायपुर ने सीएम को 10200 रुपए का चेक मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए सौंपा। मुख्यमंत्री ने उनकी इस पहल के लिए आभार व्यक्त किया और सामाजिक कार्यो में इसी तरह योगदान देने का आग्रह किया। बलौदाबाजार जिले के जन मानव कल्याण संघ के प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री को बताया कि उनकी संस्था दिव्यांगों को आत्मनिर्भर बनाने अगरबत्ती और फिनाइल बनाने का प्रशिक्षण दे रही है और उनकी शिक्षा के लिए काम कर रही है। उन्होंने मांगों के संबंध में ज्ञापन सौंपा। मुख्यमंत्री ने उनके ज्ञापन पर सहानुभूति से विचार करने का आश्वासन दिया। कबीरधाम जिले के बीरेंद्रनगर की चौती पटेल ने मुख्यमंत्री से पीएम आवास योजना में आवास स्वीकृत करने की मांग की। उनका नाम बीपीएल सूची में शामिल है। उनके पास अपने भूखंड पर मकान है, जो जर्जर हो गया है। मुख्यमंत्री ने चौती पटेल की समस्या सहानुभूतिपूर्वक सुनने के बाद कहा कि पात्रता होने पर उन्हें अनिवार्य रूप से पीएम आवास की स्वीकृति दी जाएगी।