Breaking News

Top News

मुख्यमंत्री निवास में 1 अगस्त को हरेली मनाएंगे सीएम, हल उठाकर हरेली यात्रा की शुरुआत करेंगे, सुआ-कर्मा- ददरिया, गेड़ी नृत्य की धूम मचेगी, नागरिकों को बधाई देते हुए सीएम बोले, हमर सामने चुनौती हे कि अपन संस्कृति ला कइसे बचाबो

Share Now


सीजी न्यूज रिपोर्टर
छत्तीसगढ़ की लोक परम्परा के अनुसार सीएम हाउस में हरेली तिहार मनाया जाएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 1 अगस्त को धूमधाम से हरेली तिहार मनाएंगे। सिविल लाइन स्थित मुख्यमंत्री निवास में गुरूवार को सुबह 9 बजे हरेली जोहर का आयोजन होगा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री कृषि यंत्रों की पूजा करेंगे और हल उठाकर हरेली यात्रा की शुरूआत करेंगे। मुख्यमंत्री सावन झूले में बहनों से मुलाकात भी करेंगे। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ी लोक कलाकार सुआ, कर्मा, ददरिया और गेड़ी नृत्य की प्रस्तुति देंगे। हरेली गीत गाए जाएंगे।
सब्बो मन ला हरेली तिहार के बहुत बहुत बधाई – सीएम

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने हरेली तिहार पर छत्तीसगढ़ के सभी नागरिकों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी है। उन्होंने कहा कि आज के समय की चुनौती है कि हम अपने संस्कृति को बचाएं। मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ी में बधाई संदेश में कहा कि छत्तीसगढ़ के सब्बो निवासी मन ला हरेली तिहार के बहुत बहुत बधाई। हमर छत्तीसगढ़ के कृषि संस्कृति के अनुसार हरेली हा पहली तिहार ए। गांव-गंवई के जिनगी मा खेती के स्थान महतारी असन होथे, खेती हा महतारी असन हमर भरन पोसन करथे, एखरे सेती सावन के अमावस के ए तिहार हा जन जन के जिनगी से जुड़ जथे।
सीएम ने आगे कहा कि हरेली हा हमर धरती माता के हरियाली के संदेस लेके आथे, अउ संग में हमर संस्कृति के संदेस घलो लेके आथे। हमर सामने ए समय चुनौती हे कि हम अपन संस्कृति ला कइसे बचाबो। आवव, हम अपन परंपरा ला, नवा जीवन देबर हरेली ला खूब धूम धाम से मनावन। गोठान के साफ सफाई करन. गऊ माता अउ पसुधन के जतन करन. नांगर, रापा, कुदारी के पूजा करन अउ गुड़-चीला के भोग चढ़ावन, लइका-जवान मन गेंड़ी चढ़ैं, गांव देहात के पारंपरिक खेल कूद के आयोजन करन. हरेली के रंग ला उत्साह ले भरना हे ।
मुख्यमंत्री ने कहा कि भाई बहिनी अउ सब्बो सियान मन से मनुहार करत हंव कि आवव एक नवा सुरुआत करन अउ हरेली ला हम अपन बर अउ नवा पीढ़ी बर छत्तीसगढ़ के संस्कृति के पहिचान बनावन। हमन छत्तीसगढ़ म नरवा, गरुवा, घुरुवा, बारी योजना सुरु करे हन, उखरो उद्देस्य इही हे। मोला विस्वास हे कि इही योजना हा छत्तीसगढ़ के चारों चिन्हारी ला फेर से जीवन दीही अउ हम सबके सपना साकार होही।