Breaking News

Top News

ताईवान के सांसद बोले, इंजीनियरिंग छात्र छत्तीसगढ़ को बना सकते हैं टेक्नॉलाजी हब, ताईवान में प्राकृतिक संसाधन न होने के बावजूद चल रही हैं 10 लाख से ज्यादा ट्रेडिंग कम्पनी

Share Now

सीजी न्यूज रिपोर्टर

ताईवान के सांसद प्रो. यी शी चांग ने कहा है कि इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर चुके युवा और विद्यार्थी छत्तीसगढ़ को प्रौद्योगिकी हब बना सकते हैं। एक निजी होटल में इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स और स्टार्ट-अप्स को संबोधित करते हुए चांग ने कहा कि छत्तीसगढ़ में इलेक्ट्रॉनिक्स उद्योगों की अपार संभावनाएं हैं। ताईवान एक ऐसा देश है जहां प्राकृतिक संसाधन के नाम पर कुछ भी नहीं है। वहां साल भर में दो सौ से ज्यादा भूकंप आते है। इसके बावजूद ताईवान तेज गति से विकसित हो रहा है। ताईवान में लघु उद्योगों द्वारा बड़ी मात्रा में इलेक्ट्रानिक्स उत्पादों का निर्माण होना इसका मुख्य कारण है।

चांग ने बताया कि भारत आधुनिक प्रौद्योगिकी के सॉफ्टवेयर क्षेत्र में विश्व में अग्रणी है। लेकिन हार्डवेयर के क्षेत्र में भारत को अभी बहुत कुछ करने की जरूरत है। राज्य के युवा सूक्ष्म उद्योगों के द्वारा इलेक्ट्रानिक्स उत्पादों का निर्माण करेंगे तो भारत के विकास की गति और तेज होगी। ताईवान इस क्षेत्र में छत्तीसगढ़ को पूरा सहयोग देगा। इससे पहले चिप्स के मुख्य कार्यपालन अधिकारी केसी देवसेनापति ने कहा कि अपना स्टार्ट-अप्स शुरू करने का यह  अच्छा अवसर है। विद्यार्थी छोटे-छोटे स्टार्ट-अप्स के माध्यम से प्रदेश में नवाचार कर सकते हैं।

सेमिनार में राजीव गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ कंटेम्परी स्टडीज के निदेशक विजय महाजन ने भी अपने विचार व्यक्त किए। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के सलाहकार प्रदीप शर्मा ने विद्यार्थियों को नवाचार के लिए राज्य में लघु इलेक्ट्रानिक्स कम्पनियों की स्थापना पर बल दिया। कार्यक्रम में उद्योग विभाग के महाप्रबंधक पी अरूण प्रसाद, ट्रिपल आईटी के डायरेक्टर प्रदीप सिन्हा भी मौजूद थे। सेमिनार में ट्रिपल आईटी, आईआईटी, आईटी और गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज के तीन सौ से ज्यादा स्टूडेंट्स शामिल हुए।