Breaking News

Top News

पंचायत मंत्री ने चेतावनी दी, अफसरों की गलती का खामियाजा किसान नहीं भुगतेंगे, जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाएगी सरकार

Share Now

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री और बलौदाबाजार भाटापारा जिले के प्रभारी मंत्री टीएस सिंहदेव ने अल्पवर्षा के हालात को देखते हुए किसानों के आवेदन पर सिंचाई पम्पों के कनेक्शन तत्काल देने के निर्देश दिए हैं। जिले में नदी किनारे के किसानों को ज्यादा से ज्यादा अस्थाई पम्प कनेक्शन देने कहा। प्रभारी मंत्री बनने के बाद पहली बार जिला कार्यालय के सभाकक्ष में अधिकारियों की बैठक में सिंहदेव ने कहा कि खेती कार्य के लिए लगातार बिजली सप्लाई के साथ ही खराब ट्रांसफार्मर तत्काल रिप्लेस किया जाना चाहिए।

प्रभारी मंत्री ने कहा कि खेत एवं फसलों के वास्तविक हालत की जानकारी रिकार्ड होनी चाहिए। पटवारियों को कृषि विभाग के अफसरों के साथ मिलकर गिरदावरी रिपोर्ट तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने सख्त हिदायत देते हुए कहा कि अधिकारी टेबल पर बैठकर फसल सर्वेक्षण न करें। उन्होंने हरेक डिप्टी कलेक्टर को गिरदावरी काम की निगरानी के लिए अधिकृत करने के निर्देश दिए।

किसानों के मामले में जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाएगी सरकार
पंचायत मंत्री ने कहा कि किसान फसल को लेकर चिंतित है। कई बार किसानों की बीमा प्रीमियम की राशि कम्पनी के खाते में जमा न होने से बीमा का भुगतान नहीं हो पाता। 15 अगस्त के पहले संबंधित विभागीय अफसर इसकी बारीकी से छानबीन कर लें। फार्म भरने में गलती न हो। किसानों से संबंधित बीमा आदि से संबंधित कार्रवाई की जांच खुद अधिकारी करें। कड़ी हिदायत के बाद भी गलती हुई तो कठोर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने जोर देकर कहा कि किसानों के मामले में सरकार जीरो टॉलरेन्स की नीति अपनाएगी। विभागीय अधिकारियों समेत बैंक और बीमा कम्पनी की लापरवाही का खामियाजा किसान नहीं भुगतेंगे।

आयुष्मान की बीमा कंपनी को क्लेम नहीं कर रहे सरकारी अस्पताल
स्वास्थ्य मंत्री ने नाराजगी जताते हुए कहा कि आयुष्मान योजना के अंतर्गत बीमा कम्पनी से पूरे प्रदेश के सरकारी अस्पताल क्लेम नहीं कर रहे। उन्होंने कहा कि कम्पनी भले ही क्लेम रिजेक्ट कर दे, लेकिन सौ फीसदी क्लेम प्रस्तुत होना चाहिए। उन्होंने कहा कि जिला मुख्यालय या अन्य जगहों पर निजी क्षेत्र के विशेषज्ञ डॉक्टर सेवा देने तैयार हों तो  उन्हें मानदेय देने की व्यवस्था डीएमएफ मद से की जाएगी। जिले में निजी अस्पतालों द्वारा अलग अलग कारणों से 11 गर्भाशय निकाले जाने का पता चलने पर सिंहदेव ने हर प्रकरण की जांच करने के निर्देश दिए।

डिस्पोजेबल बांस की टोकरी में ठेठरी-खुरमी के साथ चना-मुर्रा का नाश्ता
प्रभारी मंत्री टीएस सिंहदेव की बैठक इको फ्रेण्डली वातावरण में हुई। प्लास्टिक की प्लेट के स्थान पर डिस्पोजेबल बांस की टोकरी में नाश्ता परोसा गया। प्रभारी मंत्री सहित सभी जनप्रतिनिधियों और अफसरों ने इस पहल की प्रशंसा की। नाश्ते में छत्तीसगढ़ी व्यंजन ठेठरी, खुरमी के साथ मुर्रा-चना दिया गया। मंत्री-विधायक और जनप्रतिनिधियों ने बड़े चाव से छत्तीसगढ़ी नाश्ते का लुत्फ उठाया। नाश्ते के बाद कागज के गिलास में चाय दिया गया। बता दें कि जिला प्रशासन ने सभी सरकारी आयोजनों और बैठकांे का आयोजन प्लास्टिक फ्री और इको फ्रेण्डली वातावरण में करने का फैसला किया है। हरेली तिहार भी प्लास्टिक चीजों से रहित ईको फ्रेण्डली तरीके से मनाया गया था।