Breaking News

Top News

कमिश्नर बोले, ग्रीनरी बढ़ाने मिशन मोड पर काम करें अफसर, सिविल लाइन के बंगलों की जगह नया प्लान बनाने कहा, डोमेस्टिक टूरिज्म को बढ़ाने दिए निर्देश  

Share Now

संभाग स्तरीय अधिकारियों की बैठक में दुर्ग संभाग के कमिश्नर दिलीप वासनीकर ने ग्रीनरी का दायरा बढ़ाने के लिए मिशन मोड पर काम करने के निर्देश दिए हैं। पीडलूडी अफसरों से दुर्ग जिले में बेहद जर्जर हो चुके सिविल लाइन के बंगलों की जगह वैकल्पिक प्लान तैयार करने कहा गया ताकि बड़ी संख्या में अधिकारियों-कर्मचारियों के लिए आवास की व्यवस्था हो सके। उन्होंने कहा कि जी प्लस टू का प्रस्ताव बनने पर काफी संख्या में लोगों को आवास की सुविधा मिल सकेगी।

बैठक में पीडब्लूडी अफसरों ने दुर्ग शहर के सौंदर्यीकरण का प्लान बताया। कमिश्नर ने सौंदर्यीकरण और चौड़ी सड़कों के साथ सड़क सुरक्षा के पुख्ता उपाय करने के निर्देश दिए। उन्होंने डोमेस्टिक टूरिज्म को बढ़ाना देने जरूरी उपाय करने कहा। वीकेंड्स में सरोदा जलाशय में लोगों की भीड़ बढ़ने और मानसून के सीजन में चिल्फी घाटी में कोहरा देखने  चिल्फी रिसार्ट में लोगों के आने की जानकारी दी गई। कमिश्नर ने कहा कि सूपखार भी बहुत सुंदर क्षेत्र है। यहां पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं। बेहतर सुविधाएं देने से यहां का पर्यटन काफी बढ़ जाएगा।
संभागायुक्त ने सीएसआर के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा पौधे रोपने के निर्देश दिए। ग्रामीण क्षेत्रों में जनभागीदारी सहित  मनरेगा आदि माध्यमों से पौधरोपण करने कहा। उन्होंने कहा कि पौधरोपण के लिए वन विभाग की प्रमुख भूमिका के साथ ही दूसरे विभाग भी नवाचार करें। पीडब्लूडी विभाग सड़कों के चौड़ीकरण या नई सड़कों के निर्माण के समय पौधरोपण का काम भी साथ ही कराएं। सीएसआर के माध्यम से ये काम हो सकता है। वनमंडलाधिकारी धम्मशील गणवीर ने बताया कि खारून नदी के किनारे 70 किमी और शिवनाथ के किनारे 20 किमी के पैच को पौधरोपण के लिए चुना गया है। तालपुरी में बायोडायवर्सिटी पार्क बनाया जा रहा है। सिटी फारेस्ट और आक्सीजोन के निर्माण से बेहतर प्राकृतिक माहौल तैयार होगा।

बैठक में संभाग में चल रही तीनों शुगर फैक्ट्री को मजबूत बनाने, गन्ना किसानों को समय पर भुगतान करने, धान के अलावा वैकल्पिक फसलों को बढ़ावा देने के निर्देश दिए गए। गन्ने का रकबा बढ़ाने के साथ ही समय पर भुगतान सुनिश्चित करने कहा गया। उन्होंने कहा कि पाटन के अरसनारा में सुगंधित धान की खेती के लिए प्रयोग शुरू किए गए हैं। अन्य ब्लाकों में भी किसानों को नवाचार के लिए प्रेरित करने कहा गया।