Breaking News

निगम मंडलों में नियुक्ति के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रहे दावेदार, सीएम, मंत्रियों और विधायकों के करीबियों ने आवेदन जमा किया, केंद्रीय नेताओं से लगाई गुहार

सीजी न्यूज रिपोर्टर

छत्तीसगढ़ सरकार में निगम, मंडल और आयाेगों में नियुक्ति के लिए दावेदारी तेज हो गई है। राजनीतिक गलियारों से छनकर आ रही खबरों के अनुसार इसी महीने ज्यादातर निगम-मंडलों में नियुक्तियां कर दी जाएगी। पिछल 15 साल से कांग्रेस पार्टी के लिए काम करने वाले प्रमुख संगठन पदाधिकारी हर हाल में नियुक्ति पाने के लिए एड़ी-चोटी का दम लगा रहे हैं। प्रमुख दावेदार मुख्यमंत्री, केबिनेट मंत्रियों और विधायकों से मिलकर पद दिलाने आग्रह कर रहे हैं। रायपुर के अलावा मुख्यमंत्री के गृह जिले दुर्ग में सबसे ज्यादा दावेदार हैं।

राज्य सरकार के कई निगम, मंडलों और आयोगों में नियुक्ति के लिए दुर्ग से कई बड़े दावेदारों के नाम सामने आए हैं। दावेदारों में पूर्व मंत्री बीडी कुरैशी, ग्रामीण जिला कांग्रेस अध्यक्ष तुलसी साहू, शहर कांग्रेस अध्यक्ष आरएन वर्मा, राजेंद्र साहू, महापौर देवेंद्र यादव के भाई धर्मेंद्र यादव, सीजू एंथोनी, धीरज बाकलीवाल, अब्दुल गनी, जितेंद्र साहू, दीपक दुबे और पूर्व महापौर नीता लोधी के नाम प्रमुखता से लिए जा रहे हैं।

इसमें जिला कांग्रेस अध्यक्ष तुलसी साहू, राजेंद्र साहू और धर्मेंद्र यादव को मुख्यमंत्री के करीबी और विश्वासपात्र लोगों में गिना जाता है। शहर कांग्रेस अध्यक्ष आरएन वर्मा वोरा समर्थक हैं। उनका पैतृक गांव पाटन क्षेत्र में होने के कारण वर्मा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से शुरू से जुड़े हैं। सीजू एंथोनी, अब्दुल गनी और धीरज बाकलीवाल वोरा समर्थक हैं। प्रदेश के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू के पुत्र जितेंद्र साहू का नाम भी निगम, मंडल में अध्यक्ष के दावेदारों में प्रमुखता से लिया जा रहा है। एक और प्रमुख नाम दीपक दुबे का है जो पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के कट्‌टर समर्थक हैं। पिछले तीन विधानसभा चुनाव में दुर्ग ग्रामीण और भिलाई से टिकट की दावेदारी कर चुके दीपक को निगम-मंडल के लिए प्रमुख दावेदार माना जा रहा है।

पिछले एक माह से दावेदारों के आवेदनों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। प्रदेश कांग्रेस के नेताओं के अनुसार आवेदनों की संख्या करीब एक हजार से ज्यादा हो चुकी है। आवेदन करने वाले ज्यादातर कांग्रेस नेता किसी भी हालत में निगम, मंडल के अध्यक्ष पद पर काबिज होना चाहते हैं। इसके लिए मुख्यमंत्री से लेकर केंद्रीय नेताओं से भी संपर्क साधा जा रहा है। संभावना जताई जा रही है कि इसी महीने अटकलों का दौर खत्म हो जाएगा। सूत्रों के अनुसार एक हफ्ते के भीतर पहली किस्त में दर्जन भर नियुक्तियां होने की संभावना है।

प्रमुख कांग्रेस नेताओं से चर्चा के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल निगम-मंडलों में नियुक्तियां करेंगे। मुख्यमंत्री की कार्यशैली को बेहतर तरीके से समझने वाले राजनेताओं का कहना है कि  भूपेश ने विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के निष्ठावान और योग्य लोगों को टिकट दी। काफी नापतौल और पड़ताल के बाद टिकट का फैसला किया गया। इस बार भी नियुक्तियों में कोई चूक नहीं होगी। संगठन नेताओं, मंत्रियों और विधायकों से चर्चा के बाद वे योग्य लोगों को ओहदा देंगे।

56 निगम मंडल हैं छत्तीसगढ़ में
छत्तीसगढ़ में 56 निगम-मंडल व आयोग काम कर रहे हैं। हाउसिंग बोर्ड, पर्यटन मंडल, खनिज विकास निगम, मार्कफेड, क्रेडा, पाठ्यपुस्तक निगम, नागरिक आपूर्ति निगम, बीज निगम, सीएसआईडीसी, राज्य गौसेवा आयोग, रायपुर विकास प्राधिकरण, ब्रेवरेज कार्पोरेशन, महिला आयोग, हज कमेटी, अल्पसंख्यक आयोग, वक्फ बोर्ड, छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मंडल, दुग्ध संघ, मदरसा बोर्ड सहित अन्य निगम मंडलों में नियुक्तियां की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

ठगड़ा बांध को पर्यटन केंद्र बनाने विधायक ने मांगे 10 करोड़

डिस्ट्रिक्ट माइनिंग फंड से शहर में कराएँ विकास कार्य – वोरा सीजी न्यूज़ रिपोर्टर/दुर्ग डिस्ट्रिक्ट ...