Breaking News

Top News

चार डॉक्टरों को शोकाज नोटिस, अस्पताल में 5 महीने से नहीं है एंटी रैबीज वैक्सीन, दवा का स्टॉक खुले में पड़ा था, अव्यवस्था पर बिफरे संभागायुक्त 

Share Now

durg-sambhaagaayukt-shree-dileep-vaasaneekar-ne-raajasv-pakhavaada-muramunda-girahola-evan-saamudaayik-svaasthy-kendr-ahivaara-ka-nireekshan-kiya-gaya-1.jpegसीजी न्यूज रिपोर्टर

संभागायुक्त दिलीप वासनीकर ने अहिवारा स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के निरीक्षण के दौरान स्वास्थ्य सुविधाएं न होने पर कड़ी नाराजगी जताई। रजिस्टर चेक करने पर संभागायुक्त को पता चला कि शिशु रोग विशेषज्ञ डाॅ. एचके साहू अनाधिकृत रूप से 1 सितंबर से अनुपस्थित हैं। स्त्री रोग विशेषज्ञ डाॅ. वंदना भेले 4 सितंबर से, डाॅ. प्रांजल देव व डाॅ. नम्रता वर्मा 1 सितंबर से अनुपस्थित हैं। चिकित्सकों की अनाधिकृत अनुपस्थिति पर संभागायुक्त ने कारण बताओं नोटिस जारी करने के निर्देश दिए।

इसी तरह स्वास्थ्य कर्मचारियों में सुरेश सागर, नरेश कुठारे, कांता ठाकुर अनाधिकृत रूप से अनुपस्थित पाए गए। संभागायुक्त ने इन कर्मचारियों को भी कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। अस्पताल के बरामदे में औषधियों का स्टॉक खुले में पड़ा था। कर्मचारियों ने बताया कि पर्याप्त कमरे नहीं है। संभागायुक्त ने स्टोर रूम में औषधियों को व्यवस्थित व सुरक्षित तरीके से रखने कहा।

कर्मचारियों ने बताया कि टेक्नीशियन न होने के कारण अस्पताल में रखे एक्सरे मशीन को आॅपरेट नहीं किया जा रहा है। संभागायुक्त ने टेक्निशयन की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। निरीक्षण के दौरान संभागायुक्त ने एंटी रैबीज वैक्सीन की जानकारी ली। कर्मचारियों ने बताया कि अस्पताल में पिछले 5 माह से एंटी रैबीज वैक्सीन नहीं है। उन्होंने अस्पताल परिसर में साफ-सफाई न होने पर विशेष अभियान चलाकर अस्पताल को स्वच्छ रखने और अस्पताल परिसर में वृक्षारोपण करने के निर्देश दिए।

राजस्व पखवाड़ा का निरीक्षण किया

वासनीकर ने धमधा तहसील के मुरमुंदा ग्राम पंचायत और गिरहोला में राजस्व पखवाड़ा का निरीक्षण किया। ग्राम मुरमुंदा में राजस्व संबंधी प्रकरणों की जानकारी लेकर उपस्थित राजस्व अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए। ग्रामीणों ने तालाब में गंदा पानी के मिलने की शिकायत की और तालाब में गंदा पानी जाने से रोकने नाली निर्माण की मांग की।  संभागायुक्त ने ग्राम सभा में प्रस्ताव पारित कर मांग पत्र भेजने कहा। पेयजल के लिए अतिरिक्त पानी टंकी की मांग पर संबंधित विभाग को यथासंभव शीघ्र निराकरण करने के निर्देश दिए।