Breaking News

Top News

नवनियुक्त कुलपति डॉ. पल्टा ने कार्यभार ग्रहण किया, उत्तरपुस्तिका जांचने में देरी करने पर होगी कार्रवाई

Share Now

Durg-V.C.-smt.-Aruna-Palta-dwara-padbhar-grahan.jpeg
सीजी न्यूज रिपोर्टर

स्व. हेमचंद विश्वविद्यालय में सही समय पर रिजल्ट घोषित न होने के लिए जिम्मेदार लोगों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। विवि की नवनियुक्त कुलपति डाॅ. अरूणा पल्टा ने कार्यभार ग्रहण करते ही इस संबंध में स्पष्ट निर्देश जारी कर दिए। कुलपति ने कहा कि उत्तरपुस्तिका जांचने की जिम्मेदारी जिन प्रोफेसरों को दी गई है, अगर वे नियत समय पर जांच पूरी नहीं करते हैं तो उनके विरूद्ध नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने अक्टूबर में पूरक परीक्षाएं संचालित करने टाईम टेबल तैयार करने के निर्देश भी दिए।

कुलपति ने गर्ल्स काॅलेज दुर्ग में चित्रकला और साईंस कॉलेज में एमएसडब्लू और फूड साइंस के कोर्स की शुरूआत करने महीनों से लंबित निरीक्षण का काम पूरा कर इन महाविद्यालयों में कोर्स आरंभ करने की प्रक्रिया के निर्देश दिए।  अधीनस्थ अधिकारियों और कर्मचारियों से मुलाकात के दौरान उन्होंने कहा कि दुर्ग विवि की छवि सुधारने के लिए सब को दोगुनी ऊर्जा के साथ काम करना होगा। कर्तव्यनिष्ठा उत्तरदायित्व की भावना होना बहुत जरूरी है। उन्होंने साफ कहा कि उनकी सबसे बड़ी जिम्मेदारी विद्यार्थियों के प्रति है। इससे पहले संभागायुक्त व प्रभारी कुलपति दिलीप वासनीकर ने उन्हें कार्यभार सौंपा।

वासनीकर ने विश्वविद्यालय की गतिविधियों और उपलब्धियों से अवगत कराया। डाॅ. पल्टा ने कहा कि उनकी पहली प्राथमिकता विद्यार्थी हित में काम करना है। अगर विद्यार्थी संतुष्ट नहीं है तो विश्वविद्यालय अपने कार्यों में सफल नहीं हो सकता। विश्वविद्यालय के एकेडमिक कैलेण्डर को सुधारना जरूरी है, ताकि प्रवेश प्रक्रिया और पढ़ाई समय रहते पूरी हो सके। परीक्षा और नतीजे घोषित करने का काम समय पर होना चाहिए। दूसरी प्राथमिकता विश्वविद्यालय की अधोसंरचना को मजबूत करना है।

शैक्षणिक विभाग, शोध सुविधा और क्षेत्रीय आवश्यकताओं को समझते हुए पाठ्यक्रमों की शुरूआत की जाएगी उन्होंने कहा कि दुर्ग विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले बच्चे ट्रायबल और ग्रामीण वर्ग से भी हैं और बड़ा विद्यार्थी वर्ग शहरी वर्ग से है। विद्यार्थियों की जरूरत और रूचि के मुताबिक पाठ्यक्रमों की शुरूआत करना जरूरी है। कार्यभार ग्रहण कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार भूपेन्द्र कुलदीप सहित सभी सम्बद्ध महाविद्यालय के प्राचार्य व अन्य अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।