Breaking News

Top News

फिल्टर प्लांट का कांटेक्टर जला, पद्मनाभपुर में संपवेल धंसा, शहर में फिर ठप हुई पानी सप्लाई

Share Now

– पानी सप्लाई करने 5 साल में शुरू हुई ढाई अरब की योजनाएं

– डेढ़ अरब खर्च कर दिए, फिर भी व्यवस्था जस की तस

– निगम के पास बैकअप प्लान ही नहीं, मामूली रखरखाव भी समय पर नहीं

162.jpg

सीजी न्यूज रिपोर्टर

नगर निगम दुर्ग के 24 एमएलडी फिल्टर प्लांट के पेनल बोर्ड में खराबी आने के कारण शहर की पानी सप्लाई दो दिनों से ठप है। फिल्टर प्लांट में लगे इलेक्ट्रिक पैनल बोर्ड का कांटेक्टर शार्ट सर्किट होने के कारण रविवार की शाम से पानी सप्लाई पर असर पड़ा है। कल शाम को नल नहीं खुले। आज भी सुबह देर से पानी सप्लाई हुई। अफसरों ने बताया कि कांटेक्टर को बदलने का काम हो चुका है। मंगलवार से पानी सप्लाई सामान्य हो जाएगी।

पेनल बोर्ड में शॉट सर्किट होने से 24 एमएलडी फिल्टर प्लांट का मोटर पंप बंद हो गया, जिसके कारण शंकर नगर, शक्ति नगर, पद्मनाभपुर, रायपुर नाका, शनीचरी बाजार, पुलिस लाइन की पानी टंकियों में पानी का भराव नहीं हो पाया।  इसके कारण शहर में पानी सप्लाई व्यवस्था ठप रही। निगम कमिश्नर के निर्देश पर पेनल बोर्ड का कान्टेक्टर बदला गया है। सोमवार को इन क्षेत्रों में शाम के समय देर से पानी सप्लाई होगी। कल 17 सितंबर से पानी सप्लाई सामान्य होने की जानकारी दी गई है। नागरिकों को हुई असुविधा के लिए नगर निगम ने खेद व्यक्त किया है।

163

बता दें कि पिछले पांच साल में नगर निगम में पानी सप्लाई की बड़ी योजनाएं शुरू हुई हैं। फेज टू योजना पर करीब 90 करोड़ रुपए खर्च किए गए। 149 करोड़ की अमृत मिशन योजना का काम भी शहर में चल रहा है। इसके अलावा पाइपलाइन बदलने सहित 11 एमएलडी फिल्टर प्लांट के रेनोवेशन सहित अन्य कार्यों पर भी लगभग 10 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं। अरबों रुपए फूंकने के बावजूद अफसरों ने पानी सप्लाई जैसे जरूरी कार्य के लिए आज तक बैकअप प्लान ही नहीं बनाया। कई बार तो स्थिति इतनी बदतर रही कि मामूली मैकेनिकल और इलेक्ट्रिकल फाल्ट आने पर भी कोलकाता से सामान मंगाने के बाद ही मरम्मत का काम हो पाया। निगम के पास न जरूरी सामान उपलब्ध रहता है, न मेंटेनेंस की टीम रहती है। इसके कारण पानी सप्लाई जैसी जरूरी सेवाओं के लिए मरम्मत के काम तत्काल नहीं हो पा रहे।

संपवेल धसका, दो वार्डों में पानी सप्लाई ठप

नगर निगम के पद्मनाभपुर वार्ड 45 और वार्ड 46 में पानी सप्लाई करने वाले संपवेल के धसकने से इन वार्डों में पानी  सप्लाई ठप रही। हाउसिंग बोर्ड के सम्पवेल से पम्प हाउस नं. 1 में पानी सप्लाई होती है। 45 साल पुराना सम्पवेल सोमवार को अचानक धसक गया। इसके कारण क्षेत्र में पानी की टंकियां खाली रही। इन क्षेत्रों में पानी सप्लाई नहीं हो पाई। वैकल्पिक व्यवस्था के तहत अमृत मिशन की टीम को पाइपलाइन जोड़ने के निर्देश दिए गए हैं। सुबह-शाम टैंकर सेे पानी सप्लाई करने कहा गया है।

8 साल से शिकायतों को नजरअंदाज कर रहे – राजेश शर्मा

पद्मनाभपुर के वार्ड पार्षद राजेश शर्मा, पुलगांव वार्ड के पार्षद सुरेन्द्र सिंह राजपूत सहित अन्य कांग्रेस पार्षदों ने मौके पर पहुंचकर घटना की जानकारी ली। राजेश शर्मा ने बताया कि 1973 में सम्पवेल का निर्माण हुआ था। सम्पवेल के जर्जर होने की जानकारी 2008 से दी जा रही है। अब तक 6 बार नगर निगम में शिकायत के बावजूद निगम अफसरों ने ध्यान नहीं दिया। अगर सही समय पर निगम प्रशासन ने जिम्मेदारी का निर्वहन किया गया होता तो यह घटना नहीं होती। सम्पवेल से पद्मनाभपुर क्षेत्र के करीब 5 सौ घरों में पेयजल आपूर्ति होती है। सम्पवेल के धसकने से क्षेत्र के लोगों को पेयजल के लिए असुविधा का सामना करना पड़ेगा। इसके लिए पूरी तरह नगर निगम जिम्मेदार है।