Breaking News

Top News

दुर्ग में कांग्रेस से वर्मा, राजेंद्र, नारायणी, गनी, राजेश के नाम प्रबल दावेदारों में, भिलाई से बृजमोहन, तुलसी, सीजू सशक्त दावेदार, भाजपा में चंदेल, रत्नेश तो भिलाई से राकेश, रिकेश की दावेदारी  

Share Now

आरक्षण के साथ ही टिकट के लिए लामबंदी तेज

नगरीय निकायों के महापौर और अध्यक्ष पद के आरक्षण की प्रक्रिया निबटते ही दुर्ग भिलाई की सियासत तेज हो गई है। दुर्ग और भिलाई नगर निगम में महापौर का पद अनारक्षित है। यानी यहां से हर वर्ग के प्रत्याशी चुनाव में दांव आजमा सकते हैं। राजनीतिक लिहाज से शुरू से महत्वपूर्ण रहे दुर्ग जिले में कई बड़े दिग्गज नेताओं का दबदबा है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का गृह जिला होने के कारण भी सबसे ज्यादा दावेदारी भी यहीं से होगी, यह तय है। दोनों नगर निगमों में महापौर का पद अनारक्षित होने के फौरन बाद लामबंदी तेज हो गई है। दावेदारों ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सहित अन्य प्रमुख नेताओं के समक्ष अपना दावा पेश करना शुरू कर दिया है।

दुर्ग नगर निगम में पद अनारक्षित होने के कारण सामान्य वर्ग के साथ साथ ओबीसी वर्ग के दावेदार भी महापौर प्रत्याशी बनाए जाने के लिए दावा करने की तैयारी में जुट गए हैं। पूर्व महापौर आरएन वर्मा और राजेंद्र साहू ओबीसी वर्ग से होने के बावजूद महापौर प्रत्याशी के लिए सबसे प्रमुख दावेदारों में से एक हैं। उनके अलावा नगर निगम सभापति राजकुमार नारायणी, कांग्रेस पार्षद राजेश शर्मा, अब्दुल गनी, दीपक दुबे भी महापौर प्रत्याशी के लिए प्रबल दावेदार हैं। युवा कांग्रेस के सशक्त चेहरा रह चुके राजेश यादव, राकेश शर्मा को भी राजनीतिक समीकरण के तहत चुनाव मैदान में उतारा जा सकता है।

भाजपा से दुर्ग नगर निगम के महापौर के संभावित दावेदारों में देवेंद्र चंदेल, कांतिलाल बोथरा, उषा टावरी,चैनसुख भट्टड़, सुरेंद्र बजाज और संतोष सोनी के अलावा ओबीसी वर्ग से दिनेश देवांगन, ललित चंद्राकर प्रबल दावेदार हैं। उनके अलावा महापौर चंद्रिका चंद्राकर के पति व किसान मोर्चा के अध्यक्ष रत्नेश चंद्राकर का नाम भी प्रमुख दावेदारों में गिना जा रहा है। जनता कांग्रेस से पार्षद डी प्रकाश को महापौर प्रत्याशी चुना जाना लगभग तय है। उनकी दावेदारी को चुनौती देने वाले सभी प्रबल दावेदार या तो पार्टी छोड़ चुके हैं या फिर पार्टी छोड़ने की तैयारी कर रहे हैं।

भिलाई में भी हैं कई दमदार दावेदार

भिलाई नगर निगम में भी कई दमदार दावेदार हैं। महापौर पद के लिए सबसे प्रबल दावेदार बृजमोहन सिंह को माना जा रहा है। साडा उपाध्यक्ष रह चुके बृजमोहन सिंह ने विधानसभा चुनाव के लिए टिकट मांगी थी लेकिन उन्हें टिकट नहीं मिली। बगावत की तैयारी कर चुके बृजमोहन सिंह को पार्टी नेताओं ने मनाया। भिलाई नगर निगम में यूपी बिहार के वोट समीकरण को देखते हुए अब उनकी प्रबल दावेदारी मानी जा रही है। बृजमोहन के अलावा जिला ग्रामीण कांग्रेस अध्यक्ष तुलसी साहू का दावा भी काफी तगड़ा माना जा रहा है। पूर्व महापौर नीता लोधी, सीजू एंथोनी को भी महापौर पद के लिए सशक्त चेहरा माना जा रहा है।

भाजपा से भिलाई नगर निगम में संजय दानी को महापौर प्रत्याशी के लिए प्रबल दावेदारों में से एक माना जा रहा है। इसके अलावा भाजपा की राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पांडेय के भाई राकेश पांडेय, पूर्व मंत्री प्रेम प्रकाश पांडेय के पुत्र मनीष पांडेय, रिकेश सेन भी भाजपा से प्रबल दावेदारी करेंगे, यह तय है। सरोज और प्रेमप्रकाश जैसे भाजपा दिग्गजों के गढ़ भिलाई में महापौर पद के लिए किसे प्रत्याशी बनाया जाएगा? ये कह पाना अभी काफी कठिन है। 15 साल तक सत्ता में रहने के बाद अब भाजपा विपक्ष में है। भाजपा के भीतरखाने में टिकट वितरण में किसकी चलेगी और किसकी अटकेगी, यह देखा जाना अभी बाकी है। भाजपा की सियासी तस्वीर कुछ दिनों के बाद ही साफ हो पाएगी।

——– contact for news and advt. – 9479121442 – HANIF NIZAMI ———-