Breaking News

Top News

जामा मस्जिद की सम्पत्ति और किराए की जांच करने आएगी वक्फ बोर्ड की टीम, गड़बड़ी होने पर कमेटी के पूर्व पदाधिकारियों के खिलाफ हो सकती है एफआईआर

Share Now

  • विवाद और आय व्यय को लेकर शिकायतों पर वक्फ बोर्ड चेयरमैन सलाम रिज़वी के तेवर सख्त
  • जामा मस्जिद कमेटी का चार्ज अब एडहाक कमेटी को, आम सहमति से कमेटी का गठन करने की तैयारी

जामा मस्जिद कमेटी में विवादों के बाद वक्फ बोर्ड ने एडहाक कमेटी का गठन किया है। वक्फ बोर्ड के निर्देश पर दुर्ग के एसडीएम केएल वर्मा ने मस्जिद का चार्ज एडहाक कमेटी को सौंप दिया। एडहाक कमेटी के सदस्यों ने मस्जिद का चार्ज संभाल लिया है। सूत्रों का कहना है कि ज्यादातर लोग नई कमेटी का चुनाव विवाद से परे रहकर आम सहमति से करने पर जोर दे रहे हैं। इधर, वक्फ बोर्ड ने मस्जिद की संपत्ति, दुकानों के किराए सहित आय व्यय की जांच के लिए पांच सदस्यीय टीम भेजने का फैसला किया है।

यह टीम मस्जिद की आय व्यय की बारीकी से जांच करेगी। वक्फ बोर्ड के चेयरमैन सलाम रिजवी ने कहा है कि मस्जिदों समेत सभी वक्फ संपत्तियों का बेहतर तरीके से रखरखाव करने पर जोर दिया जाएगा। बिना विवाद आम सहमति से वक्फ कमेटियों का गठन करने के प्रयास किए जाएंगे। वक्फ संपत्ति की जांच के साथ आय और व्यय की जांच की जाएगी।

आब्जर्वर टीम करेगी आय-व्यय की जांच
वक्फ बोर्ड के चेयरमैन सलाम रिजवी ने कहा कि वक्फ बोर्ड से आब्जर्वर की टीम वक्फ संपत्तियों की जांच करेंगे। मस्जिद के मकान व दुकान के कागजात और किराए से मिलने वाली राशि की जांच की जाएगी। बाजार दर से किराए में अंतर पाए जाने पर किराएदारों का किराया बढ़ाया जाएगा। किराए में अनियमितता और संपत्ति के कागजात के साथ किसी भी प्रकार की लापरवाही पाए जाने पर पुराने सदर (मुतवल्ली) के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जाएगी। वक्फ संपत्तियों के प्रति लापरवाही बरतने के कारण वक्फ की संपत्ति को नुकसान हो रहा है। ऐसी सभी शिकायतों पर कड़ाई से कार्रवाई की जाएगी।