Breaking News

Top News

संभागीय जल उपभोक्ता समिति में निर्णय के फौरन बाद फसल बचाने डैम से छोड़ा गया पानी

Share Now

– तांदुला जलाशय में जलभराव 90 फीसदी, कवर्धा के जलाशयों में भी बेहतर जलभराव
सीजी न्यूज रिपोर्टर

सिंचाई के लिए डैम से पानी छोड़ने की लगातार मांग के बाद आज तांदुला व दूसरे जलाशयों से पानी छोड़ दिया गया। पानी छोड़ने से कुछ देर पहले ही संभागीय जल उपभोक्ता समिति ने इस संबंध में फैसला लिया। निर्णय के बाद पश्चात किसानों के हितों को ध्यान में रखते हुए पानी छोड़ दिया गया। तांदुला जलाशय में फिलहाल 90 फीसदी पानी भरा है। तांदुला जलाशय से सिंचाई के लिए 1 लाख 1 हजार 857 हेक्टेयर का लक्ष्य रखा गया है। बैठक में सांसद विजय बघेल, विधायक विद्यारतन भसीन, ममता चंद्राकर, भुनेश्वर बघेल सहित अन्य जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

बैठक में संभागायुक्त दिलीप वासनीकर ने सिंचाई विभाग के अधिकारियों से जलाशयों में जलभराव की स्थिति और किसानों की मांगों के संबंध में विस्तार से जानकारी ली। इसके पश्चात समिति के सदस्यों ने पानी छोड़ने का निर्णय लिया। सांसद विजय बघेल ने कहा कि पानी की एक-एक बूंद अमूल्य है और डैम से छोड़ा गया पानी जरूरतमंद किसानों तक पहुंचाने के लिए सिंचाई विभाग के अधिकारी लगातार पेट्रोलिंग करेंगे। जनप्रतिनिधि भी इस कार्य में विभागीय अधिकारियों को सहयोग प्रदान करें। जरूरत के अनुसार नहरों की मरम्मत करने के निर्देश भी दिए।

पिछले साल से ज्यादा सिंचाई का लक्ष्य
दुर्ग संभाग के अंतर्गत 5 जिलों में 1 वृहत और 17 मध्यम योजनाओं से कुल एक लाख नब्बे हजार दो सौ अस्सी हेक्टेयर खरीफ क्षेत्र में सिंचाई की क्षमता है। वर्ष 2018-19 में एक लाख 82 हजार हेक्टेयर क्षेत्र के लक्ष्य के विरुद्ध एक लाख पैंतालीस हजार हेक्टेयर में सिंचाई हुई। वर्ष 2019-20 में तांदुला वृहद परियोजना से एक लाख एक हजार आठ सौ सतावन हेक्टेयर और 17 मध्यम योजनाओं से अस्सी हजार आठ सौ अठावन हेक्टेयर यानी कुल एक लाख बियासी हजार सात सौ पंद्रह हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई का लक्ष्य रखा गया है।