Breaking News

Top News

प्रदेश के किसानों का प्रोडक्ट खरीदने देश-विदेश के 117 प्रतिनिधि पहुंचे, अंतर्राष्ट्रीय क्रेता-विक्रेता सम्मेलन के पहले दिन 8 एमओयू हुए

Share Now

202

छत्तीसगढ़ के उत्पादों को दुनिया में मिलेगी पहचान, बिचौलियों से मिलेगी मुक्ति – बघेल

छत्तीसगढ़ के चावल की खुशबू महकेगी अंतर्राष्ट्रीय बाजार में – चौबे

छत्तीसगढ़ के कृषि, उद्यानिकी, वनोपज सहित हैण्डलूम-कोसा जैसे उत्पादों को अंतर्राष्ट्रीय व राष्ट्रीय स्तर पर प्रोत्साहन के साथ मार्केट उपलब्ध कराने राजधानी रायपुर में तीन दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रेता-विक्रेता सम्मेलन शुरू हुआ। सम्मेलन में 16 देशों के 57 अंतर्राष्ट्रीय प्रतिनिधि और देश के अलग अलग राज्यों से 60 प्रतिनिधि पहुंचे हैं। सम्मेलन के पहले दिन छत्तीसगढ़ राज्य मंडी बोर्ड और छत्तीसगढ़ राज्य हैण्डलूम कोऑपरेटिव फेडरेशन के साथ चार-चार एमओयू हुए।

 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ में पहली बार हो रहे क्रेता-विक्रेता सम्मेलन में आए विदेशी मेहमानों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि किसानों का कल्याण राज्य सरकार की पहली और सर्वोच्च प्राथमिकता है। रायपुर केवल छत्तीसगढ़ की राजधानी नहीं बल्कि विविध कृषि उत्पाद और वनौषधि की राजधानी है। ऐसे सम्मेलन के माध्यम से उत्पादकों और उपभोक्ताओं के बीच सीधा संबंध बढ़ेगा और अंतर्राष्ट्रीय बाजार मिलने से प्रदेश के किसानों को फायदा होगा। उपभोक्ताओं को सही दाम पर सामग्री मिलेगी।

203-1.jpg

सम्मेलन में कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने उम्मीद जताते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ के चावल की खुशबू अब अंतर्राष्ट्रीय बाजार में महकेगी। यहां की वनौषधि जंगलों से निकलकर अंतर्राष्ट्रीय बाजार तक पहुंचेगी। सम्मेलन में मुख्यमंत्री ने क्रेताओं और प्रतिनिधियों के साथ चर्चा भी की। उन्होंने ’छत्तीसगढ़ उत्पाद’ के प्रतीक चिन्ह को जारी किया। कृषि उत्पादों के लिए बांग्लादेश, ग्रीस की कंपनियों और यूरोप-इंडिया एग्रीकल्चर फोरम के साथ चार अंतर्राष्ट्रीय एमओयू किए गए। छग  राज्य कृषि विपणन (मंडी) बोर्ड के साथ कृषि उत्पादों के विपणन के लिए बांग्लादेश फ्रेश फ्रूटस इंपोर्टर्स एसोसिएशन, बांग्लादेश एग्रो प्रोसेसर्स एसोसिएशन, ग्रीक फूड कॉरीडोर ग्रीस और यूरोप-इंडिया एग्रीकल्चर फोरम ने एमओयू किया।

हैण्डलूम वस्त्रों के लिए टाइटन कंपनी के ब्रांड तनीरा के साथ एमओयू किया गया। कंपनी का यह ब्रांड प्राकृतिक रेशे से बुनी गयी साड़ियों और वस्त्रों के लिए कौशल उन्यन, मानकीकरण और दस्तावेजीकरण के क्षेत्र में सहयोग करेगा। इससे छत्तीसगढ़ के बुनकरों को उत्पाद की क्वालिटी में सुधार और अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय बाजारों में अच्छा मूल्य प्राप्त करने का मौका मिलेगा। छत्तीसगढ़ के हैण्डलूम और सिल्क उत्पादों को विश्वस्तरीय बाजार उपलब्ध कराने छत्तीसगढ़ हाथ करघा विकास एवं विपणन संघ के साथ चार एमओयू किए गए। ये एमओयू टाईटन कंपनी लिमिटेड, पेरामोन इंडस्ट्रीज प्रायवेट लिमिटेड, एक गांव ग्रुप टेक्नॉलाजी प्रायवेट लिमिटेड और संत रविदास मध्यप्रदेश हस्तशिल्प एवं हाथकरघा विकास निगम के साथ किए गए।

प्रदर्शनी में ब्लैक राइस, आर्गेनिक राइस सहित 60 उत्पाद

सम्मेलन में लगी प्रदर्शनी में राज्य के 60 प्रकार के कृषि उत्पाद, लघु वनोपज और हैण्डलूम उत्पाद प्रदर्शित किए गए हैं। कृषि उत्पादों में ब्लैक राईस, रेड राइस, सुगंधित चावल, आर्गेनिक राइस, कोदो, कुटकी, रागी, दालों के अलावा ताजे फल और सब्जियों में ड्रैगन फ्रूट, एप्पल बेर, पेपर लेमन, जैक फ्रूट्स शामिल हैं। लघु वनोपजों में इमली और पौष्टिक औषधि, हथकरघा से बनी सजावटी वस्तुएं, सिल्क से बने ड्रेस मटेरियल, कॉटन और सिल्क कॉटन मिक्स्ड ड्रेस मटेरियल के साथ प्राकृतिक रंगो से बने सिल्क के कपड़े रखे गए हैं। सम्मेलन के तीसरे दिन 22 सितम्बर को यह प्रदर्शनी आम जनता के लिए खोली जाएगी।