Breaking News

Top News

करोड़ों की वक्फ संपत्ति पर अवैध कब्जा, कई संपत्तियां अवैध तरीके से बेची गई, बोर्ड की ऑब्जर्वर टीम ने वित्तीय अनियमितताएं भी पकड़ी

Share Now

छत्तीसगढ़ राज्य वक्फ बोर्ड की आब्जर्वर टीम ने करोड़ों की वक्फ सम्पत्तियों पर अवैध कब्जे की रिपोर्ट दी है। बिलासपुर में कई वक्फ संपत्तियों को अवैध तरीके से बेचने का खुलासा भी किया गया। वक्फ संस्थाओं की पूर्व कमेटियों की घोर लापरवाही के कारण वक्फ सम्पत्तियां बेची गई। तत्कालीन राजस्व अमले ने इस काम में सहयोग किया। इन मामलों में आब्जर्वर टीम की रिपोर्ट के आधार पर राज्य वक्फ बोर्ड आगे की कार्रवाई करेगा।

छत्तीसगढ़ राज्य वक्फ बोर्ड के नवनियुक्त अध्यक्ष सलाम रिजवी के निर्देश पर बिलासपुर जिले में वक्फ संपत्तियों की जांच और विवाद निबटाने 6 सदस्यीय आब्जर्वर टीम का गठन किया गया। टीम के सदस्यों ने बिलासपुर पहुंचकर जांच शुरू की। सभी संबंधित पक्षों से बातचीत के बाद कई गड़बड़ियों का खुलासा किया गया। टीम के सदस्य मोहम्मद ताहिर, सैयद अकील, शाहिद इकबाल, समीर रजा, मो.शहाबुद्दीन, शमी इमाम और असलम रोकड़िया ने वक्फ बोर्ड अध्यक्ष को रिपोर्ट सौंप की है।

ऑब्जर्वर दल के सदस्यों ने सुन्नी हुसैनी मस्जिद, तालापारा बिलासपुर, जूना मस्जिद बिलासपुर और दरगाह वक्फ अलल औलाद, मचखण्डा की कमेटियों के सदर और सदस्यों सहित अन्य पक्षों से चर्चा की। न्यायालयीन प्रकरणों की जानकारी ली गई। वक्फ सम्पत्तियों की आय-व्यय, वक्फ सम्पत्तियों पर अवैध कब्जे सहित अन्य विवादों पर चर्चा की गई। टीम के सदस्यों ने वक्फ सम्पत्तियों के दस्तावेजों का अवलोकन किया।

सुन्नी हुसैनी मस्जिद तालापारा बिलासपुर के पूर्व और वर्तमान पदाधिकारियों के अलावा अन्य लोगों ने बारी-बारी से अपना पक्ष रखा। यहां मस्जिद के पूर्व इमाम को हटाए जाने को लेकर विवाद की स्थिति है। मस्जिद की वर्तमान कार्यकारिणी का कार्यकाल समाप्त हो चुका है और इसी कमेटी ने मस्जिद के पूर्व इमाम को हटाया था। पूर्व की कमेटी के पदाधिकारियों सहित अन्य लोग इमाम को हटाने का विरोध कर रहे हैं। पूर्व की कमेटी पर वित्तीय अनियमितताओं का आरोप लगाया गया, जिसकी जांच की जाएगी।
जूना मस्जिद बिलासपुर के सदर ने अपने कार्यकाल के संबंध में ऑब्जर्वर दल के समक्ष अपना पक्ष प्रस्तुत किया। वक्फ बोर्ड के ऑब्जर्वर दल ने अंत में दरगाह ग्राम मचखण्डा का दौरा किया। यहां वक्फ अलल औलाद जैनुद्दीन ग्राम मचखण्डा की वक्फ सम्पत्तियों की देख-रेख भूतपूर्व मालगुजार स्वर्गीय जैनुद्दीन के वंशज करते रहे हैं। स्व.जैनुद्दीन के वारिसानों ने बताया कि पूर्व में मध्यप्रदेश वक्फ बोर्ड की ओर से वक्फ अलल औलाद जैनुद्दीन ग्राम मचखण्डा की 165 एकड़ जमीन के बारे में राजपत्र में प्रकाशन किया गया था।

वर्तमान में इस जमीन के अधिकांश हिस्से पर लोगों ने अवैध कब्जा कर लिया है। पूछताछ के दौरान पता चला कि जैनुद्दीन के ही कुछ वंशजों ने बैनामा देकर जमीनों की बिक्री की है। राजस्व विभाग के लोगों ने दस्तावेजों में हेराफेरी कर रजिस्ट्री में सहयोग किया है। बाद में शिकायत करने पर रजिस्ट्री रोक दी गई। यह मामला जबलपुर हाईकोर्ट में चला और फैसला वक्फ अलल औलाद जैनुद्दीन ग्राम मचखण्डा के पक्ष में आया। प्रशासन ने अब तक वक्फ की अवैध कब्जे वाली जमीनों को कब्जे से मुक्त नहीं कराया है।

यहां की करोड़ों रूपए की वक्फ जमीन पर अवैध रूप से कई लोगों ने कब्जा कर लिया है। ऑब्जर्वर दल ने इस संबंध में विस्तृत जानकारी लेकर राज्य वक्फ बोर्ड की ओर से विधिवत कार्यवाही का आश्वासन दिया है। ऑब्जर्वर दल ने सभी पक्षों को सुनने के साथ वक्फ सम्पत्तियों का स्थल निरीक्षण भी किया। ऑब्जर्वर दल की रिपोर्ट के आधार पर छ.ग.राज्य वक्फ बोर्ड आगे की कार्यवाही करेगा। तेजी से कार्रवाई करने के लिए जिला प्रशासन को भी पत्र जारी किया जाएगा।