Breaking News

Top News

सीएम ने कलेक्टरों को लिखी चिट्ठी, आवासीय शालाओं, छात्रावासों और आश्रमों के छात्र-छात्राओं को अपने परिवार का सदस्य मानकर सुविधाएं उपलब्ध कराने कहा

Share Now

  • पर्याप्त आवंटन के बावजूद छात्रों को नहीं मिल रही सुविधाएं, कई स्थानों से शिकायतें मिलने पर दिए दिशा निर्देश 
  • कलेक्टरों को चेकलिस्ट तैयार कर छात्रावासों में उपलब्ध सुविधाओं की जांच के बाद कमियां दूर करने कहा 
  • सीएम खुद करेंगे आकस्मिक निरीक्षण, गुणवत्ता जांचने छात्रों के साथ बैठकर भोजन भी करेंगे

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सभी कलेक्टरों को पत्र लिखकर आवासीय स्कूलों, छात्रावासों और आश्रमों में सभी सुविधाएं मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने जिला शिक्षा अधिकारियों के माध्यम से सभी आवासीय परिसरों का निरीक्षण करने  रोस्टर और चेकलिस्ट तैयार करने कहा है। कलेक्टरों को भी आकस्मिक निरीक्षण करने कहा है। मुख्यमंत्री ने कलेक्टरों को कहा है कि वे भविष्य में खुद आश्रमों और छात्रावासों का आकस्मिक निरीक्षण करेंगे। भोजन की गुणवत्ता जांचने छात्रों के साथ भोजन भी करेंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा है कि शासकीय आश्रमों, छात्रावासों और अन्य आवासीय शालाओं में बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं अध्ययन कर रहे हैं। इन परिसरों में जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराने सरकार पर्याप्त आवंटन दे रही है। इसके बावजूद कई स्थानों से जानकारी मिली है कि परिसरों में सामान्य सुविधाएं उपलब्ध कराने और रखरखाव पर अपेक्षित ध्यान नहीं दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कलेक्टरों से कहा है कि वे शासकीय परिसरों में रहने वाले छात्रों के प्रति संवदेनशील रवैया अपनाएं। अपने परिवार का सदस्य मानते हुए अपेक्षित सुविधाएं निरंतर मुहैया कराने का विशेष प्रयास करें।
मुख्यमंत्री ने छात्रावासों में साफ-सफाई, रंग-रोगन, छात्रों के कपड़े, गद्दे, तकिए, चादर, टेबल, कुर्सी, पलंग, प्रकाश व्यवस्था, किताबें, कम्प्यूटर, इनवर्टर, फर्स्ट एड, टेलीविजन और गुणवत्तायुक्त भोजन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। पत्र में कलेक्टरों को आवासीय शालाओं में विद्यार्थियों के रहने के लिए गरिमापूर्ण व्यवस्था करने कहा है ताकि उन्हें पढ़ाई का अनुकूल वातावरण मिल सके और वे उत्कृष्ट नागरिक बन सकें।