Breaking News

Top News

महापौर-अध्यक्ष का चुनाव जनता से न कराने के फैसले का विरोध, जिला भाजपा ने धरना दिया

Share Now

177.jpg

नगरीय निकाय चुनाव में महापौर और अध्यक्ष के चुनाव अप्रत्यक्ष प्रणाली से कराने के फैसले का विरोध करते हुए भाजपा ने आज विरोध प्रदर्शन किया। दुर्ग संभाग कार्यालय के सामने जिला भाजपा के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने धरना दिया। भाजपा नेताओं ने आरोप लगाया कि महापौर और अध्यक्ष का चुनाव जनता के माध्यम से न कराने का फैसला कर भूपेश बघेल सरकार ने नगरीय निकाय चुनाव में मतदाताओं का अधिकार छीना है। पार्षदों के माध्यम से महापौर और अध्यक्ष का चुनाव कराने के फैसले का जोरदार विरोध किया जाएगा।

वक्ताओं ने कहा कि भूपेश सरकार तानाशाहीपूर्ण तरीके से महापौर चुनाव में जनता का मताधिकार छीनने का प्रयास कर रही है। इस फैसले के खिलाफ भाजपा सड़क पर उतर कर आंदोलन करेगी। इस फैसले को लोकतंत्र की हत्या का प्रयास बताते हुए प्रदर्शनकारियों ने कांग्रेस सरकार के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की। धरना प्रदर्शन के बाद पैदल मार्च करते हुए सभी भाजपा नेता कलेक्ट्रेट पहुंचे और जिलाधीश को राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपकर नगरीय निकाय चुनाव प्रक्रिया में परिवर्तन पर रोक लगाने की मांग की।

इससे पहले धरना सभा को संबोधित करते हुए जिला भाजपा अध्यक्ष उषा टावरी ने कहा कि नगरीय निकाय चुनाव में आगामी चुनाव के पहले ही भूपेश सरकार संभावित पराजय देखकर घबरा गई है। महापौर और अध्यक्ष के चुनाव में बैक डोर एंट्री करने के लिए जनता द्वारा सीधे चुनाव कराने से बच रही है। चयन प्रक्रिया को बदलकर पार्षदों के माध्यम से महापौर और अध्यक्ष का चुनाव कराना चाहती है। ताकि जोड़-तोड़ और खरीद फरोख्त के माध्यम से अपना महापौर व  अध्यक्ष बनाया जा सके। भाजपा मतदाताओं का अधिकार बचाने सड़क पर उतरी है।

सभा को महापौर चंद्रिका चंद्राकर ने धरना सभा में राज्य सरकार पर अलोकतांत्रिक तरीके अपनाने और विपक्ष के साथ-साथ जनता के हितों को कुचलने का आरोप लगाया। चंद्रिका ने कहा कि नगर निगम दुर्ग में विकास कार्य ठप पड़े हैं। प्रशासन के दबाव के कारण ठेकेदार काम करने के लिए तैयार नहीं हैं। दुर्ग शहर विधायक के दबाव में निगम के अधिकारी-कर्मचारी भी काम न करने बाध्य होंगे। सभा को राजेश ताम्रकार, अजय तिवारी, दिनेश देवांगन, संतोष सोनी, विजय जलकारे, ज्ञानेश्वर ताम्रकार, शिवेंद्र परिहार, गजेंद्र यादव, काशीनाथ शर्मा ने भी संबोधित किया। धरना सभा का  रजा खोखर ने किया।