Breaking News

Top News

विधायक से मिले दो वार्डों के लोग, रेलवे की जमीन पर काबिज लोगों को पट्‌टा देकर व्यवस्थापन की मांग

Share Now

225.jpg

राजीव गांधी आश्रम योजना के अंतर्गत वार्ड नंबर 47 व 48 के झुग्गी, झोपड़ी वासियों को स्थायी पट्‌टा देकर उनके व्यवस्थापन की मांग की गई है। नगर निगम के पूर्व नेता प्रतिपक्ष देवकुमार जंघेल ने कलेक्टर अंकित आनंद और शहर विधायक अरूण वोरा को ज्ञापन सौंपते हुए कहा कि वार्ड 47 रायपुर नाका और वार्ड 48 उत्कल नगर, पांच बिल्डिंग में पिछले 40 साल से गरीब मजदूर वर्ग के लोग झुग्गी-झोपड़ी बनाकर निवास कर रहे हैं। उन्हें पट्टा देकर व्यवस्थापित करने की आवश्यकता है।

जंघेल के साथ पूर्व निगम की एमआईसी मेंबर कविता तांडी, पूर्व निगम सभापति देवनारायण तांडी, पार्षद सरला महेश्वरी भी मौजूद थे। उन्होंने वोरा को बताया कि वार्ड 47 रायपुर नाका में श्रमिक बस्ती है जिसमें अनुसूचित जाति-जनजाति और पिछड़े वर्ग के सैकड़ों परिवार निवास करते हैं। यह जमीन बीएसपी की होने के कारण लोगों को पट्‌टा नहीं दिया जा रहा है।

सिंधी कालोनी के बाजू और इसके पिछले हिस्से में भी बीएसपी और नजूल की भूमि पर लोग बसे हैं। वार्ड 48 उत्कल नगर और पांच बिल्डिंग एरिया में भी कई दशकों से सैकड़ों गरीब रेलवे और नजूल की जमीन पर बसे हैं। उन्हें भी पट्‌टा नहीं मिला है। इन सभी लोगों को हमेशा अपना आशियाना उजड़ने का भय रहता है। जंघेल ने सभी लोगों को स्थायी पट्‌टा देने की मांग की।

उन्होंने बताया कि अविभाजित मप्र में तत्कालीन मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह के कार्यकाल में रूआं बांधा भिलाई में बीएसपी की जमीन पर बसे लोगों को पट्‌टा दिया गया था। इसी तरह रेलवे की बेकार पड़ी जमीन राज्य सरकार में हस्तांतरित कर दोनों वार्डों के गरीब परिवारों को राजीव नगर आश्रय योजना के तहत स्थायी पट्‌टा देकर व्यवस्थापित किया जाए।