Breaking News

Top News

सोशल मीडिया में अफवाहें फैलाकर सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने वालों पर विशेषज्ञ रखें नजर

Share Now

– राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य सरदार मंजीत सिंह ने दुर्ग में अल्पसंख्यक कल्याण के 15 सूत्रीय एजेंडे की समीक्षा की

– अफसरों से बोले, मदरसों की समस्याएं सुलझाने और धार्मिक शिक्षा के साथ बुनियादी शिक्षा देने प्रेरित करें, ताकि रोजगार मिल सके

226

राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य सरदार मंजीत सिंह राय ने कहा है कि सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़कर शांति भंग करने में कई बार सोशल मीडिया से फैले अफवाहों की बड़ी भूमिका होती है। कई बार शरारती तत्व सच को विकृत कर सोशल मीडिया में फैलाते हैं जिससे माहौल खराब होने की आशंका रहती है। इससे निबटने के लिए शांति समिति में सोशल मीडिया विशेषज्ञों को नियुक्त किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि थाना स्तर पर संवेदनशील जगहों पर भी इस मामले में सजगता की जरूरत है। इससे सोशल मीडिया में सच्चाई को विकृत कर पेश करने वालों की पहचान आसान हो जाएगी। बैठक में कलेक्टर अंकित आनंद, एसपी प्रखर पांडे मौजूद थे। जिले में अल्पसंख्यक समुदाय के कल्याण के लिए चल रही योजनाओं की जानकारी लेने के बाद कहा कि मदरसा संचालकों की नियमित बैठक लेकर धार्मिक शिक्षा के साथ बुनियादी शिक्षा देने प्रेरित करें।

सिंह ने अल्पसंख्यक समुदाय के बच्चों की शिक्षा के संबंध में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि मदरसा संचालकों की दिक्कतों के बारे में जानकारी लें और समाधान निकालने की कोशिश करें। ताकि, भविष्य में बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर उपलब्ध हो सके। जिले में उर्दू शिक्षकों के रिक्त पदों को भरने की कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए। कलेक्टर ने बताया कि राज्य स्तर पर शिक्षकों की भर्ती के लिए परीक्षा हुई है। इसके बाद भर्ती हो जाएगी।
रोजगार पर दें ज्यादा ध्यान प्रमुख

सिंह ने कहा कि अल्पसंख्यक समुदाय की अधिकता वाले क्लस्टर चुनकर लोगों को स्वरोजगार से जोड़ने, कौशल विकास के लिए प्रेरित करने की दिशा में काम करें। उन्होंने कहा कि सोनीपत में आर्टिफिशियल ज्वैलरी को लेकर लोगों ने समूह बनाकर काम शुरू किया। कौशल विकास के बाद यह व्यवसाय वहां के समूहों के लिए प्रमुख व्यवसाय बन गया है। उत्तराखंड में गुलाबजल पर समूह काम कर रहे हैं। ललितपुर में बांस पर काम हो रहा है। नवाचारों को बढ़ावा देने से रोजगार के बड़े अवसर उपलब्ध होंगे।