Breaking News

Top News

हजारों करोड़ रुपए निवेश के बाद भी नवा रायपुर में नहीं बसा शहर – भूपेश बघेल

Share Now

मुख्यमंत्री ने धनतेरस पर नवा रायपुर में राजभवन, मुख्यमंत्री निवास सहित अन्य आवासीय परिसरों का भूमिपूजन किया
591.75 करोड़ रूपए की लागत से 24 माह में पूरा होगा निर्माण कार्य

252

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज धनतेरस के अवसर पर नवा रायपुर अटल नगर के सेक्टर-24 में 591.75 करोड़ रूपए की लागत से बनने वाले राजभवन, मुख्यमंत्री निवास, विधानसभा अध्यक्ष निवास, मंत्रियों  के आवास गृह और वरिष्ठ अधिकारियों के आवासीय परिसर का भूमिपूजन किया। समारोह में छत्तीसगढ़ विधानसभा के अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत और मंत्री परिषद के सदस्य मौजूद थे। इस मौके पर सीएम ने कहा कि नई राजधानी का शिलान्यास सोनिया गांधी ने वर्ष 2001 में किया था। यहां हजारों करोड़ रुपए का पूंजी निवेश हुआ, लेकिन शहर नहीं बस पाया।

253

उन्होंने कहा कि सड़क, बिजली-पानी की व्यवस्था होने के बावजूद शहर की बसाहट नहीं हो पाई। यहां मुख्यमंत्री, विधानसभा अध्यक्ष, मंत्री परिषद के सदस्य और वरिष्ठ अधिकारी रहना शुरू करेंगे तो धीरे-धीरे शहर बसेगा। जब सभी अधिकारी, कर्मचारी यहां रहने लगेंगे तो बाजार और अस्पताल भी विकसित होंगे। बघेल ने इस मौके पर प्रदेशवासियों को धनतेरस पर्व की बधाई और शुभकामनाएं भी दी।

254

लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि आवासीय परियोजना को पूरा करने अधिकारियों की टीम गठित की गई है। समय सीमा और निर्माण कार्य की गुणवत्ता का ध्यान रखकर परियोजना पूरी की जाएगी। अधिकारियों की जिम्मेदारी भी तय की जाएगी। विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। लोक निर्माण विभाग के अपर मुख्य सचिव अमिताभ जैन ने आवासीय परियोजना की विस्तृत जानकारी दी।

कार्यक्रम में कृषि मंत्री रविंद्र चौबे, वन एवं पर्यावरण मंत्री मोहम्मद अकबर, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री टी एस सिंहदेव, महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंड़िया, राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल, उद्योग मंत्री कवासी लखमा, संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत, स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री गुरु रूद्र कुमार, उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल, सांसद दीपक बैज, छाया वर्मा और सुनील सोनी, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष व विधायक मोहन मरकाम, धनेन्द्र साहू, विकास उपाध्याय, रायपुर के महापौर प्रमोद दुबे सहित अन्य जनप्रतिनिधि व सीनियर अफसर मौजूद थे।

साढ़े 12 एकड़ में बनेगा राजभवन, साढ़े 7 एकड़ में सीएम हाउस बनेगा

राजभवन कुल 12.60 एकड़ में विकसित होगा। यहां दरबार हॉल और सचिवालय भवन सहित अन्य भवन होंगे। मुख्यमंत्री आवास एवं कार्यालय 7.50 एकड़ में बनाया जाएगा। विधानसभा अध्यक्ष आवास और कार्यालय के लिए 3.19 एकड़ भूमि आवंटित की गई है। मंत्रियों व नेता प्रतिपक्ष के आवास एवं कार्यालय डेढ़ एकड़ में बनेंगे। ऐसे 13 आवास बनाए जाएंगे। वरिष्ठ अधिकारियों के लिए 85 आवास बनाए जाएंगे। प्रत्येक आवास 0.45 एकड़ में बनाया जाएगा। इन कार्यों के लिए सेक्टर-24 में 158 एकड़ पर तथा सेक्टर-18 में 64 एकड़ कुल 222 एकड़ भूमि आबंटित की गई है।