Breaking News

Top News

फरिश्ते से कम नहीं शहर के ये नौजवान… एक हजार से ज्यादा दिनों से भूखों को भोजन परोस रहे, अब दिवाली पर गरीब बच्चों को बांट रहे पटाखे, मिठाई

Share Now

261

दिवाली त्यौहार मनाने बाजार में लोगों की भीड़ उमड़ रही है। लोग नए कपड़े, जूते-चप्पल से लेकर घर की साज सज्जा  के लिए फैंसी आइटम, फूलों के गुलदस्ते खरीद रहे हैं। मिठाईयों के साथ पटाखे की खरीदी हो रही है। दूसरी ओर, शहर में चंद नौजवान ऐसे भी हैं जिन्हें खुद दिवाली पर्व की खुशियां मनाने की फिक्र नहीं है। शहर के गरीब बच्चों के जीवन में दीप पर्व की रौशनी बिखेरने की कोशिश में जुटे हैं ये नौजवान। दिवाली से पहले समाज सेवा की ललक के साथ इन नौजवानों ने शहर में घूम-घूम कर गरीब बच्चों को पटाखे और मिठाई बांटी। उनकी कोशिश सिर्फ यही थी कि मायूस चेहरों पर मुस्कुराहट बिखेर दें…और इसमें कामयाब भी हुए…

दौड़ती भागती जिंदगी में निजी स्वार्थों से भरी दुनिया में सामाजिक कार्यों में दिलचस्पी रखने वाले चंद युवकों ने कुछ वर्षों से जनसेवा का बीड़ा उठा रखा है। गरीबों की सेवा का संकल्प लेकर इन युवकों ने पिछले 1 हजार से ज्यादा दिनों से बिना नागा गरीबों, असहाय, दिव्यांग लोगों को रात के समय भोजन कराया। इन नौजवानों की अद्भुत संकल्प शक्ति के कारण फुटपाथ पर जीवन बसर करने वाले गरीब, असहाय लोग अब भूखे पेट नहीं सोते। संस्था के नाम के अनुरूप ये युवक पूरे समर्पण भाव से लोगों को खुद अपने हाथों से भोजन परोसते हैं।

262

भोजन के लिए हर दिन फंड जुटाने की कोशिश में व्यस्त रहने वाले नौजवानों ने इस बार दिवाली में गरीबी के कारण मायूस चेहरों पर खुशियां बिखेरने की सोची। समाज के सशक्त तबके से सहयोग मांगा। अपनी जेब से भी पैसे निकाले। और फिर… शहर में घूम-घूम कर गरीब बच्चों को कपड़े, मिठाई और पटाखे बांटने लगे। दीप पर्व से पहले 25 व 26 अक्टूबर को दुर्ग रेल्वे स्टेशन व पुराना बस स्टैंड में बच्चों को पटाखे व मिठाई का वितरण किया। स्टेशन में फुटपाथ या प्लेटफार्म पर रहने वाले गरीब बच्चों के साथ पटाखे जलाकर, मिठाईयां खिलाते हुए दीप पर्व की बधाई दी।

मानवता है सबसे बड़ा धर्म – बंटी शर्मा

263

जन समर्पण सेवा संस्था के प्रमुख बंटी शर्मा कहते हैं कि समाज के निराश्रित व असहाय तबके के जीवन में खुशियां बिखेरने के लिए संस्था का गठन किया गया। एक सच्चे सामाजिक कार्यकर्ता का एकमात्र धर्म मानवता और सेवा होता है। इसी भाव के साथ संस्था ने दीप पर्व पर गरीब बच्चों को पटाखे और मिठाई का वितरण किया है। इस नेक काम में विवेक मिश्रा, शिबू मिर्जा, शिशु शुक्ला, प्रकाश कश्यप, अमीर तिगाला, आशीष मेश्राम, हितेश पुरोहित, मृदुल गुप्ता, राहुल आढ़तिया, जगवीर सिंह सिकरवार, प्राचीश अग्रवाल, श्रवण साहू, विजय तिवारी, राकेश वर्मा, अजय भारद्वाज ने सक्रिय योगदान दिया।

रोज रात को दर्जनों लोगों को भोजन वितरण, गरीबों को बांट चुके कंबल, कपड़े, बर्तन  

संस्था के सदस्यों ने बताया कि संस्था के माध्यम से पिछले 1 हजार से ज्यादा दिनों से रोज रात को गरीब, असहाय, दिव्यांग और जरूरतमंद लोगों को भोजन कराया जाता है। 40 से 50 लोगों को निःशुल्क भोजन कराने की व्यवस्था जनसहयोग से की जाती है। संस्था ने दिव्यांगो व जरूरतमंदों को बैशाखी, ट्रायसिकल, व्हीलचेयर, गरीबों को पलंग, कपड़े, बर्तन जैसी सामग्री का वितरण किया जा चुका है।

लोगों से गरीबों के बीच दीप पर्व की खुशियां बिखेरने की अपील

संस्था के सदस्यों ने शहर के सभी नागरिकों से अपील करते हुए कहा है कि दिवाली पर्व पर खुद खुशियां मनाएं। इसके साथ ही जरूरतमंद बच्चों, गरीबों के साथ भी त्यौहार की खुशियां बांटें। संस्था के नौजवानों का कहना है कि दूसरों की उदास जिंदगी में खुशियां बिखेरना पुण्य का काम है। इस काम में सभी लोग सहभागिता निभाएं।

भूखों को भरपेट भोजन कराने वाले मायूस चेहरों पर मुस्कुराहट लाने वाले खुशियां बिखेरने वाले ये नौजवान किसी फरिश्ते से कम नहीं हैं।

आप की सेवा भावना को …द सीजी न्यूज … का सलाम