Breaking News

Top News

किसानों के मुद्दे पर कांग्रेस का बड़ा आंदोलन 7 नवंबर से, तीन चरणों में होगा प्रदर्शन

Share Now

किसानों से धान खरीदी पर बोनस देने से केंद्र सरकार ने लगा दिया है प्रतिबंध, विरोध में ब्लाक,जिला व प्रदेश स्तर पर धरना देंगे कांग्रेसी   

प्रदेश के किसानों से धान खरीदी पर बोनस देने से केंद्र सरकार ने प्रतिबंध लगा दिया है। इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री भपेश बघेल ने केंद्र सरकार को चिट्‌ठी भेजकर किसानों के हित में फैसला लेने की अपील की है। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री से मिलने का समय भी मांगा है। केंद्र से बोनस देने के मुद्दे पर रोक लगाने के कारण 25 सौ रुपए प्रति क्विंटल की दर से धान खरीदी पर संकट के बादल गहराने लगे हैं। इस मुद्दे को लेकर अब कांग्रेस ने विशाल आंदोलन का ऐलान कर दिया है।

केंद्र सरकार के रवैये के खिलाफ प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने तीन स्तरों पर आंदोलन की तैयारी की है। पहले चरण में ब्लाक स्तर पर आंदोलन और धरना प्रदर्शन किया जाएगा। दूसरे चरण में जिला मुख्यालयों में धरना दिया जाएगा। इसके बाद प्रदेश स्तर पर विशाल धरना प्रदर्शन किया जाएगा। प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने आंदोलन की रूपरेखा तय करते हुए जिला कांग्रेस कमेटियों को पत्र भेजकर आंदोलन की तैयारी शुरू करने के निर्देश दिए हैं।

तीन चरणों में बनी है आंदोलन की रूपरेखा –

ब्लाक स्तरीय प्रदर्शन

 7 नवंबर  – बस्तर, दुर्ग, सरगुजा में ब्लाक स्तरीय आंदोलन व धरना प्रदर्शन किया जाएगा।

8 नवंबर को बिलासपुर और रायपुर संभाग में ब्लाक स्तरीय प्रदर्शन किया जाएगा।

जिला स्तरीय आंदोलन  

प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों में 11 नवंबर को धरना प्रदर्शन किया जाएगा।

प्रदेश स्तरीय धरना-प्रदर्शन

15 नवंबर को प्रदेश मुख्यालय रायपुर में प्रदेश भर के किसान और कांग्रेस कार्यकर्ता शामिल होंगे।

पीएम को पत्र लिखने किसानों के बीच जाएंगे कांग्रेसी  

आंदोलन के तहत कांग्रेस की टीम किसानों के बीच जाएगी और बोनस देने की मांग को लेकर प्रधानमंत्री को पत्र लिखने का अभियान चलाएंगे। सभी ब्लाकों में बूथ स्तर पर किसानों के बीच हस्ताक्षर अभियान चलाते हुए 10 नवंबर तक हस्ताक्षरयुक्त पत्र 10 नवंबर तक जिला मुख्यालय भेजा जाएगा। 12 नवंबर तक प्रदेश मुख्यालय तक ये पत्र पहुंचाना अनिवार्य है। 13 नवंबर को प्रदेश मुख्यालय से अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी नई दिल्ली को सभी पत्र भेजे जाएंगे।