Breaking News

Top News

भाजपा संगठन चुनाव में फिर मचा हंगामा, सदर मंडल चुनाव स्थगित

Share Now

बेहद अनुशासित राजनीतिक पार्टी के रूप में पहचान बना चुकी भाजपा में अनुशासन तार-तार होने लगा है। 15 साल तक प्रदेश की सत्ता में रहे भाजपा नेता मंडल स्तर के संगठन चुनाव में बगावत पर उतर आए हैं। संगठन चुनाव की प्रक्रिया को लेकर आरोप प्रत्यारोप लगाने का दौर शुरू हो चुका है। सिकोला भाठा मंडल चुनाव में धक्का मुक्की के बाद आज गंजपारा सदर मंडल चुनाव में भी जमकर हंगामा हुआ। कार्यकर्ताओं की तीखी बहस और हंगामे के कारण चुनाव स्थगित कर दिया गया है।भाजपा गंजपारा सदर मंडल का चुनाव पहले 2 नवंबर तय किया गया था। चुनाव अधिकारी शिव चंद्राकर ने जिला भाजपा अध्यक्ष उषा टावरी को पत्र लिखकर यह सूचना दी कि चुनाव की तिथि बदलकर 3 नवंबर कर दी गई। चुनाव की तारीख बदलने से पहले चुनाव अधिकारी शिव चंद्राकर से न तो विधिवत अनुमति ली गई , न उन्हें इसकी सूचना दी गई। चंद्राकर ने कहा कि उन्हें बार-बार कहने के बावजूद बूथ अध्यक्षों की सूची उपलब्ध नहीं कराई गई।खास बात ये है कि चुनाव अधिकारी के पत्र में यह उल्लेख नहीं है कि चुनाव तिथि बदलने का फैसला किसने लिया। बूथ अध्यक्षों की सूची किसने नहीं दी। भाजपा नेताओं ने बताया कि चुनाव तिथि बदलने और बूथ अध्यक्षों की लिस्ट न देने के मामले में मंडल अध्यक्ष कांशीनाथ शर्मा के खिलाफ शिकायत की गई है। जिला भाजपा अध्यक्ष उषा टावरी ने प्रदेश चुनाव प्रभारी से चर्चा के बाद बिना अनुमति चुनाव की तिथि बदलने और चुनाव प्रक्रिया के लिए मंडल अध्यक्षों की सूची उपलब्ध न कराने के कारण गंजपारा सदर मंडल चुनाव स्थगित कर दिया।इधर, भाजपा कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि चुनाव से बचने के लिए स्थगित करने का फैसला किया गया। अगर चुनाव तिथि बदलने और बूथ अध्यक्षों की लिस्ट न मिलने जैसे नियम विरुद्ध कार्य किए गए हैं तो चुनाव अधिकारी शिव चंद्राकर चुनाव कराने क्यों आए। चुनाव स्थल तक पहुंचने के बाद चुनाव स्थगित करना सरासर गलत है। कार्यकर्ता लगातार मतदान की मांग कर रहे थे लेकिन चुनाव अधिकारी ने चुनाव स्थगित करवा दिया।चुनाव स्थल पर शिव चंद्राकर के अलावा संतोष सोनी, सतीश समर्थ सहित अन्य भाजपा नेता मौजूद थे। चुनाव कराने की मांग करते हुए गुस्साए कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया। उन्होंने आरोप लगाया कि मतदान कराने से बचने और अपने चहेते लोगों को मंडल अध्यक्ष के रूप में थोपने का प्रयास करते हुए चुनाव स्थगित किया गया है।