Breaking News

Top News

वित्तीय गड़बड़ी करने वाले अफसरों से रिकवरी होगी –ताम्रध्वज

Share Now

63

धमतरी में पीडब्लूडी और गृह विभाग की बैठक लेकर अफसरों को दिए निर्देश

प्रदेश के गृह, जेल, लोक निर्माण विभाग, धार्मिक न्यास, धर्मस्व और पर्यटन मंत्री ताम्रध्वज साहू ने पीडब्लूडी और गृह  विभाग की समीक्षा बैठक लेकर अफसरों को काम करने के तरीके में बदलाव लाने के निर्देश दिए। ताम्रध्वज ने कहा कि निर्धारित बजट और समयावधि में कार्य पूरा न करने वाले अफसरों के विरूद्ध सख्ती से कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने  वित्तीय अनियमितता पाए जाने पर संबंधित अधिकारी से रिकवरी करने के निर्देश भी दिए।

कलेक्टोरेट सभाकक्ष में हुई समीक्षा बैठक में ताम्रध्वज ने कहा कि अफसर अपनी कार्य संस्कृति में बदलाव लाकर आम जनता के सामने सकारात्मक छवि प्रस्तुत करें। जनता से जुड़े कार्यों को आवश्यकतानुसार प्राथमिकता तय कर फौरन क्रियान्वयन करने के निर्देश भी दिए। बैठक में सिहावा विधायक डॉ. लक्ष्मी ध्रुव और संजारी बालोद विधायक संगीता सिन्हा उपस्थित थीं।

लोक निर्माण मंत्री ने सड़कों में बारिश के बाद बने गड्ढों की फिलिंग करने का कार्य फौरन शुरू करने कहा। पुराने और अधूरे निर्माण कार्यों की समीक्षा के दौरान कुछ निर्माण कार्यों को पूरा करने पुनराबंटन प्रस्ताव भेजने  पर उन्होंने साफ कहा कि किसी कारणवश पुराने कार्य अधूरे हैं, तो संबंधित अधिकारी की जवाबदेही तय होना चाहिए। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मंशानुसार मितव्ययिता अपनाते हुए ऐसी कार्ययोजना तैयार करने कहा जिससे कम जगह का ज्यादा से ज्यादा कार्यों के लिए उपयोग हो सके और शेष बची जगह का इस्तेमाल व्यावसायिक उद्देश्यों की पूर्ति के लिए किया जा सके।
सट्टा, जुआ और नशे की लत पर शिकंजा कसने अभियान चलाएं
गृह विभाग की समीक्षा करते हुए ताम्रध्वज ने कहा कि किसी भी अपराध को सिरे से खत्म करने के लिए उसकी जड़ को मिटाना बेहद जरूरी है। सट्टा और जुआ जैसी सामाजिक बुराईयों को समाप्त करने लगातार अभियान चलाकर अपराधियों पर कानूनी शिकंजा कसने के निर्देश दिए। नशे की लत को दूर करने अभियान चलाने पर जोर दिया। पुलिस विभाग के अधिकारियों को आम जनता के बीच सकारात्मक छवि बनाने की नसीहत दी। कार्यशैली ऐसी हो कि पुलिस से अपराधी डरें, ना कि आम आदमी। उन्होंने रायपुर की तर्ज पर जिले में जनसहयोग से सीसीटीवी कैमरों की संख्या बढ़ाने, सायबर सेल का पृथक कंट्रोल रूम स्थापित करने, निचले स्तर के कर्मचारियों की मूलभूत सुविधाओं का खयाल रखने और थानों में केस दर्ज कराने आने वाले लोगों से मधुर संबंध और अनुकूल वातावरण स्थापित करने पर जोर दिया।