Breaking News

Top News

तौफीक का इलाज कराने कर्बला कमेटी उठाएगी एक ऑपरेशन का खर्च, दूसरे ऑपरेशन के लिए मदद देने आगे आया मुस्लिम समाज

Share Now

दुर्ग। गंभीर बिमारी से ग्रस्त 22 वर्षीय युवक के इलाज के लिए मुस्लिम समाज ने एकजुट होकर युवक के परिजनों को एक लाख एक हजार रुपए का चेक दिया है। केलाबाड़ी निवासी तौफीक के कमर के नीचे का हिस्सा निष्क्रिय हो गया है। उसे चलने-फिरने में काफी दिक्कत होती है। उसकी बीमारी का इलाज दुर्ग-भिलाई में पिछले 4 साल से चल रहा है। इलाज में फायदा न होने पर उसे रायपुर ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने तौफीक को चेन्नई, बैंगलोर या वेल्लूर में चेकअप कराने की सलाह दी है। डाक्टरों की सलाह पर युवक के परिजन उसे वेल्लूर ले गए। वहां के अस्पताल में 22 दिनों तक रखा गया। अलग-अलग मेडिकल जांच के बाद डाक्टरों ने उसे 3 माह बाद दोबारा ऑपरेशन के लिए बुलाया है।

तौफीक के परिजन गुलजार खान ने बताया कि अगले माह वे दोबारा वेल्लूर जाएंगे। डाक्टरों का कहना है कि तौफीक का दो बार आपरेशन होना है। दोनों बार आपरेशन में लगभग साढ़े पांच लाख रुपए का खर्च आएगा। तौफीक के परिजनों की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। उसके पिता का 6 साल पहले निधन हो चुका है। उसकी छोटी बहन पढ़ाई के साथ-साथ ट्यूशन पढ़ाती है। मां गृहिणी हैं। गुलजार ने बताया कि डाक्टरों के अनुसार यदि उसका इलाज नहीं कराया गया तो वह चलने फिरने में पूरी तरह अक्षम हो जाएगा। पूरी तरह बिस्तर पर ही रहना पड़ेगा। इलाज के लिए युवक 10 दिसंबर को वेलूर के लिए रवाना होगा।

दिन पर दिन उसकी हालत खराब होते देखकर मुस्लिम समाज के गणमान्य नागरिक तौफीक की मदद के लिए आगे आए हैं। मस्जिदों में चंदा करने के साथ ही व्यक्तिगत रूप से लोग सहायता देने आगे आ रहे हैं। कर्बला कमेटी के गुलाम सैलानी ने तौफीक के पहले आपरेशन का पूरा खर्च कमेटी द्वारा वहन करने की घोषणा भी की है। मंगलवार को सीरत पाक कमेटी, दुर्ग ने 50 हजार रुपए, फजल फारूखी ने 30 हजार रुपए, कर्बला कमेटी ने 11 हजार और आसिफ जादा ने 10 हजार रुपए दिए। इस तरह कुल कुल 1 लाख 1 हजार रुपए का चेक पीड़ित के परिजनों को सौंपा गया। इस मौके पर सीरत पाक कमेटी के हाजी साजिद अली, कर्बला कमेटी के गुलाम सैलानी, पूर्व डिप्टी कलेक्टर क्यूए खान, पार्षद अब्दुल गनी, रऊफ कुरैशी, शेख असलम, नईम बेग, निजामुद्दीन, सैय्यद रज्जब अली, कलाम खान, फजल फारूखी, सैय्यद साजिद अली, सैयद आरिफ रजा, जुनैद, जुबैर, इरफान, अमीर सहित समाज के अन्य लोग मौजूद थे।