Breaking News

Top News

शांति से चुनाव कराने अपराधियों पर पुलिस की पैनी नजर, डीएम ने जारी किए दिशा निर्देश, होटल, लॉज, सराय और धर्मशालाओं की सघन जांच होगी

Share Now

 जिले में आदर्श आचार संहिता लागू, रात 10 बजे के बाद लाऊड स्पीकर के उपयोग पर प्रतिबंध, जिला दंडाधिकारी ने जारी किए आवश्यक दिशा निर्देश

दुर्ग। प्रदेश में नगरीय निकाय चुनावों के घोषणा के साथ ही आदर्श आचरण संहिता लागू हो गई है। शांतिपूर्ण ढंग से निकाय चुनाव संपन्न कराने डीएम (जिला दंडाधिकारी व कलेक्टर) अंकित आनंद ने आवश्यक दिशानिर्देश जारी किए हैं। जिला दंडाधिकारी ने कोलाहल नियंत्रण अधिनियम 1985 की धारा 4,5,10 और 11 के तहत् आदेश जारी करते हुए आदेश दिया है कि जिले में कहीं भी रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक तेज संगीत नहीं बजाया जा सकेगा। अपराधियों, बाहरी व्यक्तियों और संदिग्धों पर विशेष निगरानी रखने के साथ कानून व्यवस्था का कड़ाई से पालन कराने पुलिस को अलर्ट कर दिया गया है।
आपको बता दें कि जिले के 6 नगरीय निकायों नगर निगम दुर्ग, नगर पालिका अहिवारा, कुम्हारी, नगर पंचायत धमधा, पाटन और उतई सहित भिलाई के वार्ड क्रमांक 3 और 10 में 21 दिसंबर को चुनाव होंगे। चुनाव संपन्न कराने कई आदेश जारी किए गए हैं। लाउडस्पीकर पर प्रतिबंध के साथ ही कोई भी व्यक्ति वाहन से कोई विद्युत हाॅर्न नहीं बजाएगा जिससे राहगीरों को असुविधा, डर, घबराहट या कोई दूसरी परेशानी आदि हो। विशेष प्रयोजन के लिए छूट की जरूरत होने पर संबंधित एसडीएम या उप पुलिस अधीक्षक से लिखित अनुमति प्राप्त करना होगा। किसी भी स्थिति में अनुमति का दुरूपयोग होने पर तत्काल प्रभाव से प्राप्त अनुमति निरस्त की जाएगी।

अपराधियों, बाहरी व्यक्तियों और संदिग्धों पर विशेष निगरानी
जिला दंडाधइकारी व कलेक्टर अंकित आनंद ने आदर्श आचार संहिता के दौरान अपराधियों बाहरी व्यक्तियों और संदिग्धों पर विशेष निगरानी रखने कहा है। उन्होंने पुलिस अधीक्षक दुर्ग को ज्ञापन जारी कर कहा है कि चुनाव संपन्न होने तक आदतन अपराधियों के विरुद्ध दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 107, 109और 110 के तहत प्रतिबंधात्मक कार्रवाई किया जाए। होटल, लॉज, सराय और धर्मशालाओं की गहन जांच करने के आदेश दिए गए हैं। जांच के दौरान यदि अवांछनीय तत्व मिलने पर उसके विरुद्ध तत्काल कड़ी कार्रवाई करने के आदेश दिए गए हैं। इस दौरान छोटे-बड़े सभी वाहनों की सघन जांच करने, किसी भी स्थिति में अवैध शराब, घातक अस्त्र-शस्त्र और हथियार का परिवहन ना होने, जुआ सट्टा आदि पर कठोर नियंत्रण के साथ साथ हिस्ट्रीशीटर बदमाशों पर नियमानुसार कार्रवाई और जमानत पर छूटे व्यक्तियों पर निगरानी रखने कहा गया है। संवेदनशील मतदान केंद्रों पर विशेष रूप से निगरानी रखने की बात भी कही गई है। जिला दंडाधिकारी ने कहा है कि पुलिस अधीक्षक संबंधित क्षेत्र के थाना प्रभारी को निर्देशित करें।