Breaking News

Top News

नगर निगम का कारनामा -मॉर्निंग वाकर्स के लिए ऑक्सीज़ोन में शुद्ध कॉर्बन डाई ऑक्साइड की व्यवस्था

Share Now

दुर्ग। ये तस्वीर दादा दादी नाना नानी पार्क के सामने की है। समय सुबह 6.30 बजे। कलेक्टर और एसपी बंगले से होते हुए मॉर्निंग वाकर्स रोज की तरह आज भी सुबह की सैर कर रहे हैं। सेहत सुधारने के लिए सैकड़ों लोग यहां मॉर्निंग वॉक करने आतेे हैं।

दादा दादी पार्क के ठीक सामने उपेक्षित पड़े इलाके में एक्सरसाइज़ के लिए मॉर्निंग वाकर्स ने व्यवस्था की है। लोहे की पाइप वगैरह का जुगाड़ कर यहां हल्की फुल्की कसरत के इंतेज़ाम किए गए है। मॉर्निंग वाकर्स ग्रुप ने ये सारी व्यवस्थाएं की है। नगर निगम ने कोई काम नहीं कराया।

अब जरा सुबह का सीन देख लीजिए। जब यहां सुबह की सैर करने के बाद लोग एक्सरसाइज़ करने पहुंचे, तो यहाँ धुआं ही धुआं था। कचरे के चार ढेर बनाकर यहां आग लगा दी गई थी। शुद्ध ऑक्सीज़ोन में कार्बन डाई ऑक्साइड से फेफड़े बेकार करने की व्यवस्था नगर निगम के स्वास्थ्य विभाग ने की थी। यहां आने वाले लोगों ने बताया कि अक्सर यहां ऐसे ही कचरे पर आग लगाई जाती है। लोगों को इस परेशानी का सामना करना पड़ता है।

साफ सफाई कभी कभी होती है। जब यहां लोग एक्सरसाइज़ करने पहुंचते हैं तो वहां पर अक्सर शराब की छोटी बोतल, सेव आदि के पाउच पड़े रहते है। 15-20 दिन में अगर सफाई कर दी जाती है तो कचरे को उठाने की बजाय आग लगाकर वेस्ट मैनेजमेंट किया जाता है।

ब्यूरोक्रेट्स सुबह से अलर्ट, मैदानी अमला सिस्टम सुधारने तैयार नहीं

ये हाल तब है जब खुद कलेक्टर अंकित आनन्द सुबह से सफाई सहित नगर निगम की दूसरी व्यवस्थाओं का निरीक्षण करने निकल रहे हैं। निगम कमिश्नर इंद्रजीत बर्मन भी पिछले 3 महीने से सफाई दुरुस्त करने आकस्मिक निरीक्षण कर समझाइश, डांट फटकार और निलम्बन जैसी कार्रवाई कर रहे हैं। संभागायुक्त दिलीप वासनीकर ने भी सफाई व्यवस्था सुधारने सुबह सुबह शहर का निरीक्षण किया और कड़े निर्देश दिए। सीनियर ब्यूरोक्रेट्स की सजगता और जिम्मेदार कार्यप्रणाली के बावजूद निगम का मैदानी अमला काम सुधारने की बजाय और बिगाड़ रहा है।