Breaking News

Top News

नशीली दवाओं के व्यापार का भांडा फूटा, 86 लाख रुपए मूल्य की 50 पेटी नशीली दवाएं जब्त, रायपुर, अम्लेश्वर और भिलाई की मेडिकल एजेंसियों में रायपुर पुलिस ने छापामार कार्रवाई की

Share Now

सीजी न्यूज रिपोर्टर। (रायपुर / दुर्ग)

पुलिस विभाग ने मादक दवाओं के अवैध व्यापार का खुलासा किया है। मामले में नारकोटिक्स एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है। दिन भर चली कार्रवाई में रायपुर और दुर्ग जिले के तीन मेडिकल एजेंसियों में दबिश देकर 7200 नग कोडिन युक्त आरसी कफ सिरप जब्त किया गया है। जब्त किए गए कफ सिरप का मूल्य 86 लाख 40 हजार रुपए आंका गया है। रायपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आरिफ शेख के निर्देश पर जांच अभियान चलाने के बाद यह कार्रवाई की गई। अवैध व्यापार में शामिल लोगों की पतासाजी की जा रही है।

पुलिस को जांच के दौरान पता किया कि तिरुपति फार्मा से 31 अक्टूबर से 30 नवंबर के बीच सिर्फ दो मेडिकल स्टोर्स में 1 लाख 26 हजार 388 नग कफ सिरप की सप्लाई की गई है। सप्लाई किए गए कफ सिरप की कीमत करीब 1 करोड़ 51 लाख 66 हजार रुपए है। पाटन ब्लॉक के अम्लेश्वर में हेल्थ बायोरेक और भिलाई के चौहान मेडिकल स्टोर्स में कफ सिरप की सप्लाई की गई है।

पुलिस ने जब रिकॉर्ड खंगाले तो पता चला कि भिलाई के चौहान मेडिकल स्टोर्स ने 31 अक्टूबर से 30 नवंबर तक एक माह की अवधि में 1 लाख 10 हजार 692 नग कोडिन युक्त आरसी कफ सिरप खरीदा है। मेडिकल स्टोर्स में दबिश देने पर कफ सिरप का स्टॉक नहीं मिला। खरीदी बिक्री से संबंधित रिकॉर्ड भी नहीं था। तिरुपति फार्मा से कफ सिरप लगातार लेने के बाद मेडिकल स्टोर्स में सिरप न पहुंचाकर अलग-अलग जगहों पर फुटकर बिक्री के जरिये सिरप खपाया जा रहा था।

इसी तरह कोर हेल्थ बायोरेक अम्लेश्वर जिला दुर्ग ने 15696 नग कफ सिरप खरीदा। जब दबिश देने पुलिस पहुंची तो कोर हेल्थ के नाम से कोई मेडिकल स्टोर्स के नाम पर सिर्फ एक गोदाम मिला जो 8 माह से ज्यादा समय से बंद है। यहां भी तिरुपति फार्मा से कफ सिरप लेकर अलग अलग जगहों पर खपाया जा रहा है। पुलिस ने इस अवैध कारोबार का पता चलने के बाद 5 दिसंबर को दिन भर ड्रग विभाग के अफसरों के साथ मिलकर जांच अभियान चलाया। इस कारोबार में शामिल एजेंसियों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है।

ऐसे हुआ खुलासा

एसएसपी आरिफ शेख और सीएसपी डीसी पटेल ने कोतवाली अनुभाग में पिछले दिनों नशीली दवाओं का कारोबार करने वालों के खिलाफ लगातार अभियान चलाया। अवैध रूप से व्यापार करने वालों के खिलाफ नारकोटिक एक्ट के तहत कार्रवाई करते हुए गिरफ्तार किया गया। मौदहापारा थाना में गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ के दौरान रायपुर और दुर्ग जिले की तीन मेडिकल एजेंसियों के माध्यम से नशीली दवाओं के अवैध कारोबार का पता चला। इसके बाद ड्रग विभाग के अफसरों के साथ मिलकर पुलिस ने तीनों एजेंसियों में छापा मारकर अवैध कारोबार का खुलासा किया।