Breaking News

Top News

बीमा कंपनी पर उपभोक्ता फोरम ने लगाया 4 लाख 21 हजार रुपए हर्जाना

Share Now

निवेशक को मैच्योरिटी राशि का भुगतान न करने पर सहारा क्यू शॉप यूनिक प्रोडक्ट्स रेंज लिमिटेड को हर्जाना भरना पड़ेगा। ग्राहक की शिकायत पर कंपनी को व्यवसायिक कदाचरण और सेवा में निम्नता के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए जिला उपभोक्ता फोरम दुर्ग के सदस्य राजेन्द्र पाध्ये और लता चंद्राकर ने 4 लाख 21 हजार रुपये हर्जाना अदा करने का आदेश पारित किया है।

भिलाई 3 चरोदा निवासी परिवादी उमाशंकर पाल ने सहारा क्यू शॉप यूनिक प्रोडक्ट्स रेंज लिमिटेड की भिलाई 3 शाखा प्रबंधक पर विश्वास कर कंपनी के क्यू शॉप प्लान एचपी की 4 पॉलिसियाँ वर्ष 2012-13 में ली थी। अनावेदक कंपनी के बताए अनुसार 6 वर्ष में रकम दुगुनी होकर मिलना था। परिपक्वता के बाद परिवादी ने सभी आवश्यक दस्तावेजों को जमा कर अपनी मैच्योरिटी रकम की मांग की परंतु अनावेदक कंपनी के शाखा कार्यालय ने कहा कि मुख्य कार्यालय से चेक नहीं आया है और दो-चार महीने समय लगेगा।

बार-बार चक्कर काटने पर भी राशि नहीं मिलने से परिवादी ने पुलिस अधीक्षक दुर्ग के समक्ष शिकायत की और अधिवक्ता के माध्यम से नोटिस जारी कराया। इसके बाद भी उसे मैच्योरिटी  की रकम नहीं मिली। फोरम की नोटिस मिलने के बाद अनावेदकगण के अधिवक्ता प्रकरण में उपस्थित हुए परंतु उनकी ओर से कोई प्रतिरक्षा नहीं ली गई।

फोरम का फैसला
अनावेदक कंपनी द्वारा प्रकरण में बचाव नहीं लिए जाने से परिवादी द्वारा प्रस्तुत दस्तावेजों के आधार पर जिला उपभोक्ता फोरम के सदस्य राजेन्द्र पाध्ये और लता चंद्राकर ने अनावेदक कंपनी को उपभोक्ता के प्रति व्यवसायिक कदाचरण और सेवा में निम्नता का जिम्मेदार माना।जिला उपभोक्ता फोरम के सदस्य राजेन्द्र पाध्ये और लता चंद्राकर ने कंपनी पर 4 लाख 21 हजार रुपये हर्जाना लगाया, जिसमें परिपक्वता राशि 400300 रुपये, मानसिक क्षतिपूर्ति के रूप में 20000 रुपये तथा वाद व्यय 1000 रुपये अदा करने का आदेश दिया। इस राशि पर 7.5 प्रतिशत वार्षिक दर से ब्याज भी देना होगा।