Breaking News

Top News

हास्य कवि सुरेंद्र दुबे ने अपने पुत्र आशुतोष दुबे के पक्ष में समर्थन जुटाने स्लम बस्ती में सुनाई पुरानी कविता, मौजूद रहे सिर्फ 20-22 श्रोता

Share Now

सीजी न्यूज डॉट कॉम

चुनाव जीतने के लिए लोग क्या-क्या हथकंडे नहीं अपनाते। राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय स्तर के कवि सम्मेलनों में लाखों रुपए लेकर हास्य व्यंग्य की कविताएं प्रस्तुत करने वाले कवि सुरेंद्र दुबे ने आज एक स्लम बस्ती में कविता पाठ किया। वो भी मुफ्त में। बोरसी पश्चिम वार्ड 49 में ठगड़ा बस्ती के मतदाताओं को लुभाने के लिए रात 8 बजे से कविता पाठ शुरू किया। सबसे खास बात ये रही कि सुरेंद्र दुबे को सुनने के लिए महज गिनती के लोग ही आए। इसे लेकर राजनीतिक हलकों में खूब चटखारे लिए जा रहे हैं। कांग्रेस के साथ ही भाजपा नेता भी इस कवि सम्मेलन को लेकर मजे ले रहे हैं। 

दरअसल, हास्य कवि सुरेंद्र दुबे के पुत्र आशुतोष दुबे इस वार्ड से भाजपा उम्मीदवार हैं। राष्ट्रीय स्तर पर धाक जमा चुके सुरेंद्र दुबे ने अपने पुत्र के पक्ष में समर्थन जुटाने के लिए बस्ती में कविता पाठ किया। कविता पाठ की सूचना बस्ती में पहले से देने के बावजूद यहां न बस्ती के लोग आए, न आसपास की कालोनी के लोग पहुंचे। सुरेंद्र दुबे अपनी पुरानी कविताएं सुनाते रहे। इस दौरान सिर्फ 20-22 लोग मौजूद थे। इनमें  सुरेंद्र दुबे के पुत्र व भाजपा प्रत्याशी आशुतोष दुबे समेत उनके चार-पांच समर्थक भी शामिल हैं।  

स्लम बस्ती के लोगों ने दुबे की हास्य व्यंग्य की कविताओं पर उत्साह नहीं दिखाया। उम्मीद थी कि कविता पाठ जारी रखने पर कुछ देर में भीड़ बढ़ेगी लेकिन काफी देर बाद भी श्रोताओं की उपस्थिति नहीं बढ़ी। आपको बता दें कि आशुतोष दुबे के लिए वोट जुटाने विख्यात कवि कुमार विश्वास का ऑडियो संदेश भी प्रसारित किया गया लेकिन मतदाताओं पर इसका कोई असर नहीं पड़ा। ऑडियो संदेश में कुमार विश्वास ने आशुतोष की तारीफ करते हुए शुभकामनाएं दी है। शिक्षित मतदाताओं पर भी इसका असर नहीं पड़ा। इसी कड़ी में सुरेंद्र दुबे आज हास्य कविता के जरिये स्लम बस्ती के लोगों को प्रभावित करने पहुंचे, लेकिन बस्ती के लोगों ने रिस्पांस नहीं दिया।