Breaking News

Top News

रायपुर में भी सभा लेंगे सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता भानुप्रताप, सीएए और एनआरसी का विरोध करने अलख जगाएंगे

Share Now

– भिलाई में रविवार को संविधान बचाओ, भारत बचाओ आंदोलन संघर्ष मोर्चा के सर्वसमाज सम्मेलन में सीएए और एनआरसी के विरोध में बड़ी तादाद में जुटे लोग

– भानुप्रताप के साथ सेल्फी और ऑटोग्राफ लेने की होड़ मची

– बारिश में भीगते हुए जारी रखा भाषण, सभास्थल पर डटे रहे हजारों लोग

सीजी न्यूज डॉट कॉम

भिलाई में सीएए और एनआरसी के विरोध में संविधान बचाओ, भारत बचाओ आंदोलन संघर्ष मोर्चा के सर्वसमाज सम्मेलन में भारी भीड़ जुटने के बाद अब रायपुर में विशाल प्रदर्शन की तैयारी शुरू हो गई है। भिलाई में रविवार को सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता भानुप्रताप की सभा में सुनने के लिए बड़ी तादाद में लोग पहुंचे। मौसम खराब होने के बावजूद सभी समाजों के लोग सभा में शामिल हुए। भाषण के दौरान बारिश शुरू होने पर भी सभा स्थल पर मौजूद हजारों लोग टस से मस नहीं हुए। बारिश में भीगते हुए वरिष्ठ अधिवक्ता ने अपनी स्पीच दी और लोग भीगते हुए उन्हें सुनते रहे। खुले मंच में भाषण दे रहे वरिष्ठ अधिवक्ता को बारिश से बचाने छतरी लाई गई लेकिन उन्होंने छतरी हटाते हुए बारिश में अपना उद्बोधन जारी रखा।   

   

सम्मेलन में भानुप्रताप ने तीखा हमला बोलते हुए कहा कि सरकार की नीयत ठीक नहीं है। सरकार हर मामले में झूठ बोलती है। सीएए को लेकर भी झूठ कहा गया है। यह झूठ उजागर हो गया है। पीएम सहित अन्य मंत्री कह रहे हैं कि सीएए के माध्यम से पाकिस्तान, बंगलादेश और अफगानिस्तान में धार्मिक अत्याचार से प्रताड़ित अल्पसंख्यक लोगों को भारत की नागरिकता दी जाएगी। जबकि एक्ट में कहीं पर भी धार्मिक प्रताड़ना का कोई उल्लेख नहीं है। उन्होने सवाल किया कि अगर सरकार की नीयत सही है तो प्रताड़ित लोगों को धर्म के आधार पर क्यों नागरिकता दी जा रही है। इसमें मुसलमानों को शामिल नहीं किया जा रहा है। 

भानुप्रताप ने कहा कि केंद्र सरकार संविधान के मूल ढांचा से खिलवाड़ नहीं कर सकती। संविधान में साफ लिखा है कि भारत एक पंथ निरपेक्ष लोकतांत्रिक गणराज्य हैं। देश में किसी भी व्यक्ति के साथ धर्म, भाषा, क्षेत्र के साथ भेदभाव नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि सरकार का एजेंडा नागरिकता कानून के बहाने हिंदू-मुसलमान के बीच भेदभाव बढ़ाना और देश को बांटना है। देश की आर्थिक स्थिति बदतर हो गई है। बेरोजगारी, महंगाई, गरीबी, किसानों की समस्या, शिक्षा और स्वास्थ्य जैसे मुद्दों पर पूरी तरह विफल रही केंद्र सरकार ने इन मुद्दों से देश का ध्यान भटकाने के लिए सीएए और एनआरसी लाने का प्रयास किया है। देश के  लोग सरकार की नीयत को समझ चुके हैं। पूरे देश में लोग अब सड़कों पर उतरकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।    

सेल्फी और ऑटोग्राफ लेने की होड़ मची

सेक्टर 6 स्थित सतनाम भवन के सामने हुए सम्मेलन में सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता भानुप्रताप के उद्बोधन के बाद बड़ी संख्या में लोग मंच पर चढ़ गए। उनके साथ सेल्फी लेने की होड़ मच गई। मंच से उतरने के बाद भी सैकड़ों लोग मोबाइल पर तस्वीरें लेते रहे। सेल्फी लेने के साथ ही ऑटोग्राफ लेने की होड़ मची। कार्यक्रम आयोजक बार-बार उनकी फ्लाइट का समय होने का हवाला देते हुए लोगों को रोकने का प्रयास करते रहे, लेकिन लोग नहीं माने। करीब 45 मिनट तक सेल्फी और ऑटोग्राफ लेने वाले लोगों की भीड़ मौजूद रही। भीड़ कम होने पर उन्हें सभास्थल से रवाना किया जा सका। सम्मेलन में मुख्य आयोजक कर्बला कमेटी, भिलाई के अध्यक्ष गुलाम सैलानी, सेक्टर 6 मस्जिद के पूर्व इमाम अजमलुद्दीन हैदर, पिछड़ा वर्ग समाज के केंद्रीय अध्यक्ष गिरधर मढ़रिया, बुद्धिस्ट सोसायटी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष अनिल मेश्राम, रऊफ कुरैशी, गुरू घासीदास सेवा समिति के अध्यक्ष एसके केशकर, दुर्ग नगर निगम के एमआईसी मेंबर हमीद खोखर, साजिद महेंद्रा, रज्जब भाई, अय्यूब खान, फिरोज खान सहित बड़ी संख्या में भिलाई, दुर्ग व राजनांदगांव के नागरिक शामिल हुए।     

( तकनीकी समस्याओं के कारण यह समाचार आज प्रसारित किया गया है। )