Breaking News

Top News

कांग्रेस ने इंकम टैक्स छापे पर अपनाए आक्रामक तेवर, राज्यपाल को ज्ञापन दिया, कल प्रदेश भर के कांग्रेसियों की बैठक बुलाई   

Share Now

सीजी न्यूज डॉट कॉम

इंकम टैक्स अफसरों की छापामार कार्रवाई को संघीय ढांचे के खिलाफ बताते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में सभी मंत्रियों ने आज राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा। इसके फौरन बाद प्रदेश भर के कांग्रेस कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों को आनन फानन में सूचना देकर कल रायपुर में बैठक में शामिल होने कहा गया है। बैठक रायपुर के राजीव भवन में सुबह 11 बजे शुरू होगी।

प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने सभी कार्यकर्ताओं को बैठक में अनिवार्य रूप से शामिल होने की सूचना देते हुए कहा कि केंद्र सरकार छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार पर राजनीतिक विद्वेष की भावना से प्रेरित होकर कार्रवाई कर रही है। राज्य सरकार को बिना सूचना दिए प्रदेश में 36 घंटे से भी ज्यादा समय से इंकम टैक्स विभाग की छापामार कार्रवाई  चल रही है। छत्तीसगढ़ शासन से बिना पूर्व अनुमति लिए सीआरपीएफ जवानों की तैनाती की गई है।

इस तरह अलोकतांत्रिक तरीके से संघीय ढांचे पर हमला करते हुए कांग्रेस सरकार को अस्थिर करने का प्रयास किया जा रहा है। इस मुद्दे पर छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने 29 फरवरी को राज्य स्तरीय बैठक बुलाई है। बैठक में सांसद, विधायक, पूर्व विधायक, महापौर, पूर्व महापौर, जिला पंचायत अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सदस्य, पूर्व सदस्य, पार्षद, पूर्व पार्षद सहित कांग्रेस संगठन के सभी सदस्यों को अनिवार्य रूप से उपस्थित होने कहा गया है।

राज्यपाल से हस्तक्षेप का आग्रह

इससे पहले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में मंत्रिमण्डल के सदस्यों ने राजभवन में राज्यपाल अनुसुईया उइके से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में मंत्रिमण्डल के सदस्यों ने मुलाकात की और  छत्तीसगढ़ में आयकर विभाग द्वारा मारे जा रहे छापे के संबंध में ज्ञापन सौंपा। प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल से इस संबंध में हस्तक्षेप करने का आग्रह किया। इस दौरान गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू, संसदीय कार्य मंत्री रविन्द्र चौबे, वन मंत्री मोहम्मद अकबर, स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, आबकारी मंत्री कवासी लखमा, महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंडि़या, नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया, खाद्य मंत्री अमरजीत भगत, उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल और विधायक मोहन मरकाम उपस्थित थे।

केंद्र सरकार के खिलाफ भूपेश के आक्रामक तेवर

राज्य में 36 घंटे से चल रही इंकम टैक्स विभाग की छापामार कार्रवाई के तौर तरीके पर कांग्रेस सरकार ने कड़ी आपत्ति जताई है। कांग्रेस सरकार को छापे की पूर्व सूचना दिए बगैर सीआरपीएफ के जवानों को तैनात करने और अभी तक मीडिया ब्रीफिंग न करने से विवाद बढ़ा। जिस तरह आज मुख्यमंत्री सचिवालय की डिप्टी सेक्रेटरी सौम्या चौरसिया के निवास पर छापा मारा गया, उससे यह विवाद और बढ़ गया। कांग्रेस नेताओं का कहना है कि राजनीतिक विद्वेष के तहत छापामार कार्रवाई की जा रही है। इस मामले को लेकर जिस आक्रामक तेवर के साथ आनन फानन में राज्य स्तरीय बैठक बुलाई गई है उससे यह संकेत मिल रहे हैं कि भूपेश सरकार अब केंद्र सरकार के किसी भी दबाव की राजनीति को बर्दाश्त नहीं करेगी। संभावना जताई जा रही है कि कल की बैठक में मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस नेतृत्व इस संबंध में बड़ा ऐलान भी कर सकते हैं।

रमन सरकार के भ्रष्टाचार उजागर करने के जवाब में इंकम टैक्स छापे ?   

कांग्रेस नेताओं का कहना है कि रमन सरकार के कार्यकाल के दौरान बड़े बड़े घोटाले हुए जिसे लगातार उजागर किया जा रहा है। इसके जवाब में केंद्र सरकार के अंतर्गत इंकम टैक्स अफसरों को राजनीतिक विद्वेष के कारण छत्तीसगढ़ में भेजा गया है। संसदीय सचिव रविंद्र चौबे ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि राज्य में पिछले 36 घंटे से छापेमारी की कार्रवाई चल रही है। गुरूवार को सुबह 8 बजे से कार्रवाई शुरू हुई और राज्य सरकार को अभी तक कोई सूचना नहीं दी गई है। मीडिया को कोई अपडेट नहीं दिया गया। यह संघीय ढांचा के बेहद विपरीत है। विधानसभा चुनाव में तीन चौथाई बहुमत कांग्रेस को मिलने के बाद पिछली सरकार के भ्रष्टाचार को लगातार उजागर किया गया।प्रदेश में अलग अलग स्तरों पर हुए चुनाव में कांग्रेस की लगातार जीत हो रही है जिसे भाजपा पचा नहीं पा रही है।