Breaking News

Top News

ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों को 26 करोड़ की राहत राशि देगी सरकार, धमधा में 24 करोड़ और पाटन व दुर्ग ब्लाक में कुल दो करोड़ रूपए का वितरण होगा

Share Now

राजस्व सचिव रीता शांडिल्य ने दुर्ग कलेक्ट्रेट में राजस्व अफसरों की बैठक ली

सीजी न्यूज डॉट कॉम

राजस्व सचिव रीता शांडिल्य ने आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में राजस्व अधिकारियों की बैठक लेकर ओलावृष्टि से जिले में फसल नुकसान की समीक्षा की। बैठक में कलेक्टर अंकित आनंद ने बताया कि जिले में सबसे ज्यादा नुकसान धमधा ब्लाक में हुआ है। यहां लगभग 24 करोड़ रुपए की राहत राशि और शेष दोनों ब्लाक में कुल 2 करोड़ रुपए की राहत राशि वितरित की जाएगी।

राजस्व सचिव ने पट्टाधारियों को भूस्वामी हक देने की कार्रवाई की समीक्षा भी की। कलेक्टर ने बताया कि जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक लेकर व अन्य माध्यमों से इसका प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। पट्टाधारियों को बताया गया है कि भूस्वामी हक मिलने से उन्हें क्या लाभ होगा। कलेक्टर ने बताया कि नगरीय क्षेत्र में 7500 वर्गफीट तक शासकीय भूमि के 30 वर्षीय आवंटन और अतिक्रमण की गई शासकीय भूमि के व्यवस्थापन के संबंध में भी कार्रवाई हो रही है।

कलेक्टर ने बताया कि इसी संबंध में 12 मार्च को शाम साढ़े चार बजे चेंबर आफ कामर्स, कॉलोनाइजर, उद्योगपतियों, व्यापारी संघ, आवासीय समितियों और अन्य एसोसिएशन की बैठक होगी। राज्य शासन के आदेश पर गैर रियायती दर पर आबंटित भूमि को गाइडलाइन की दर की कीमत की दो प्रतिशत राशि, रियायती दर पर आबंटित भूमि को गाइडलाइन की दर की कीमत की 102 प्रतिशत राशि और  अतिक्रमित भूमि को गाइड लाइन की दर की कीमत की 152 प्रतिशत राशि जमा करने पर भूमिस्वामी हक में परिवर्तन किया जाएगा।

नजूल अधिकारी ने बैठक में बताया कि इस संबंध में कलेक्ट्रेट कार्यालय और निगम कार्यालय में जानकारी चस्पा की गई है। लोगों को कार्यालय में भी इसके लाभ की जानकारी दी जा रही है। भूमिस्वामी हक प्राप्त करने के लिए आवेदन पत्र कलेक्टर, नजूल शाखा, दुर्ग में प्रस्तुत किया जा सकता है। आवेदन के साथ शपथ पत्र और  पट्टे की प्रति सलंग्न करना होगा। इससे नगर तथा ग्राम निवेश के भूमि प्रयोजन के अनुसार व्यावसायिक प्रयोजन पर परिवर्तित कर बैंक लोन लिया जा सकता है। भूमिस्वामी के रूप में भूमि का विक्रय भी सरलता से हो सकता है। बैठक में रमेश शर्मा संचालक भूअभिलेख, अपर कलेक्टर बीबी पंचभाई और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।