Breaking News

Top News

राशन कार्ड बनाने चालान जमा नहीं किया, हजारों लोग भटक रहे, निगम की प्रशासनिक व्यवस्था ठप, महापौर की कार्यप्रणाली पर उठे सवाल

Share Now

नगर निगम की प्रशासनिक लापरवाही कामकाज पर महापौर का नियंत्रण नहीं 

द सीजी न्यूज 

दुर्ग नगर निगम में प्रशासनिक व्यवस्था का हाल बेहाल है। निगम के राजस्व विभाग ने फूड विभाग में 28 हजार राशन कार्डों की राशि जमा नहीं की है जिसके कारण फूड विभाग कार्ड जारी नही कर रहा है। नगर निगम को लगभग 2 लाख 80 हजार रूपए खाद्य विभाग में जमा करना है। राशि जमा न होने के कारण फूड विभाग से कार्ड नहीं मिल पा रहे हैं।

जानकारी लेने पर पता चला कि फूड विभाग के स्टॉफ ने 2 लाख 33 हजार का चालान बनाया है लेकिन लापरवाही बरतते हुए चालान फूड विभाग में जमा नहीं किया। निगम की बदइंतजामी के कारण हजारों लोग योजना का लाभ लेने कलेक्टोरेट स्थित फूड विभाग से नगर निगम कार्यालय तक चक्कर काट रहे हैं।

आपको बता दें कि नगर निगम में राशन कार्ड सुधार का कार्य भी बंद पड़ा है। इससे पहले हजारों नागरिकों ने नए कार्ड बनाने और सुधार कार्य के लिए जमा किए थे। अब तक कार्ड न बनने और विभागीय अफसरों द्वारा आवेदन न मिलने की जानकारी देने पर लोग दोबारा आवेदन दे रहे हैं। निगम प्रशासन की लापरवाही से 5 नागरिकों को 5 माह का राशन नहीं मिल पाया है।

नगर निगम की नई परिषद के कामकाज पर सवाल उठे

नगर निगम की नई परिषद के कामकाज पर लगातार सवाल उठ रहे हैं। पिछले दिनों शहर में गंदे पानी की सप्लाई का मामला सुर्खियों में रहा। अरबों रूपए की योजना के बावजूद नगर निगम के कई वार्डों में गंदे पानी की सप्लाई करीब दो हफ्ते तक होती रही। विधायक अरूण वोरा के कड़े निर्देश के बाद विभागीय अमला कुछ हद तक हरकत में आया लेकिन निगम की नई परिषद के मुखिया होने के नाते महापौर धीरज बाकलीवाल की भूमिका शून्य रही। इसी तरह राज्य शासन की महत्वाकांक्षी योजना नरवा, गरूवा, घुरवा और बाड़ी योजना के क्रियान्वयन में भी लापरवाही बरती जा रही है। राशन कार्ड बनाने से लेकर वितरण व्यवस्था और सुधार कार्य में भी विभाग की लापरवाही सामने आई है। महापौर धीरज बाकलीवाल ने नगर निगम के प्रशासनिक कामकाज को सुधारने की दिशा में अब तक प्रभावी पहल करने में विफल रहे हैं। खास बात ये है कि नगर निगम का विपक्ष भी जनहित के मामलों में चुप्पी साधे बैठा है।