Breaking News

Top News

स्पा या मसाज सेंटर की आड़ में सैक्स रैकेट पर प्रभावी रोक लगाना जरूरी, सेंटर फॉर सोशल लर्निंग ने सीएम को पत्र भेजकर मांग की

Share Now

ऐसे सेंटरों का खुलासा करने वालों को 25 हजार रूपए का पुरस्कार देगी संस्था

द सीजी न्यूज 

सामाजिक संस्था सेंटर फॉर सोशल लर्निंग ने छत्तीसगढ़ के कई बड़े शहरों में स्पा या मसाज सेंटर की आड़ में चल रहे सेक्स रैकेट पर चिंता जताते हुए मुख्यमंत्री से सभी स्पा व मसाज सेंटरों की गहन जांच कराने की मांग की है। सेंटर फॉर सोशल लर्निंग की संस्थापक प्रज्ञा निर्वाणी ने कहा है कि रायपुर, बिलासपुर ,दुर्ग, भिलाई , कोरबा, जगदलपुर और अम्बिकापुर जैसे बड़े शहरों में खुल रहे 90 प्रतिशत मसाज पार्लर में मसाज के नाम पर गलत तरीके से एडल्ट एक्टिविटी होती है।

उन्होंने कहा कि इन सेंटरों के डस्ट बिन में पड़े आपत्तिजनक सामग्री इसकी तस्दीक करते हैं। ऐसे सेंटरों में होने वाली अनैतिक गतिविधियों का खुलासा करने वालों को सेंटर फॉर सोशल लर्निंग की ओर से 25हजार रुपए का नगद पुरुस्कार दिया जाएगा। ऐसी गतिविधियों की मोबाइल रिकार्डिंग कर पुलिस अधीक्षक कार्यालय को जानकारी देने पर उसे यह पुरस्कार राशि दी जाएगी।
प्रज्ञा ने कहा कि छत्तीसगढ़ की संस्कृति को दूषित करने का कुत्सित प्रयास कर रहे असामाजिक तत्वों के मंसूबो को सफल नही होने दिया जाएगा। सेंटर फॉर सोशल लर्निंग के सदस्यों ने आगे  कहा कि शहर के प्रतिष्ठित आवासीय कालोनियों और बड़े शॉपिंग मालों में व्यवसायिक तरीके से स्पा सेंटर संचालित हो रहे हैं। इसकी बुकिंग के लिए मोबाइल एप्प से लेकर टेली कालिंग से ऑफर दिए जाते हैं। कोई भी सभ्य समाज ऐसी गतिविधियों पर हाथ मे हाथ रखकर नही बैठ सकता।

आधुनिकता की दौड़ में फुहड़ता न पनपे

प्रज्ञा निर्वाणी ने कहा कि ऐसे संस्थानों पर अंकुश लगाना सिर्फ सत्ताधारी राजनैतिक दल की जिम्मेवारी नहीं है, बल्कि सभी सामाजिक संस्थान, मीडिया संस्थान, पक्ष विपक्ष शासन, प्रशासन के लोगों की नैतिक जिम्मेदारी है। यह चिंतन करना जरूरी है कि हम कैसे समाज के निर्माण की ओर अग्रसर हो रहे हैं। आने वाली पीढ़ी को इसके गंभीर दुष्परिणाम भोगने पड़ेंगे। सेंटर फॉर सोशल लर्निंग के सदस्यों ने मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में माँग की है कि राज्य में क्रॉस जेंडर मसाज बंद होना चाहिए। और स्पा सेंटरों के लिए टास्क फोर्स का गठन किया जाए।