Breaking News

Top News

जनता कर्फ्यू से 15 घंटे पहले ही छत्तीसगढ़ ने दिखाई जबर्दस्त जागरूकता, शनिवार की शाम से ही सभी शहरों में आधे से ज्यादा दुकानें बंद, रविवार को सुबह से घर से नहीं निकले लोग   

Share Now

द सीजी न्यूज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक जनता कर्फ्यू की अपील की थी, लेकिन छत्तीसगढ़ के जागरूक नागरिकों ने 15 घंटे पहले ही जनता कर्फ्यू की शुरुआत कर दी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश की जनता से कोरोना वायरस से बचाव के लिए कई बड़े कदम उठाए हैं। उन्होंने आम जनता से घर से बाहर न निकलने की लगातार अपील की है। प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की अपील मानते हुए नागरिकों ने इस संक्रामक बीमारी के फैलाव को रोकने के लिए खुद को लॉक कर लिया।

जीई रोड का नजारा… राजेंद्र पार्क चौक से

स्वयं के स्वास्थ्य का ध्यान रखते हुए कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने और दूसरों को बचाने की संकल्पशक्ति के साथ पूरे छत्तीसगढ़ में लोगों ने जबर्दस्त जागरूकता दिखाई। ज्यादातर दुकानें शनिवार को दोपहर बाद से ही बंद होने लगी। रायपुर, दुर्ग, बिलासपुर रायगढ़,धमतरी, अंबिकापुर सहित अन्य प्रमुख शहरों में शाम 7 बजे तक मुख्य बाजार की अधिकांश दुकानों के शटर गिर चुके थे। अनाज दुकान, सब्जी फल की दुकानें, किराना व जनरल स्टोर्स, बेकरी और मेडिकल शाप्स में शनिवार को रात तक काफी भीड़ रही। अन्य दुकानों में इक्कादुक्का लोग ही दिखे। शनिवार को केवल जरूरी सामान की खरीदारी के लिए ही लोग बाहर निकले। होटल, रेस्टॉरेंट्स, स्वीट्स शाप सहित अन्य संस्थान पहले से ही बंद हो गए थे।

कोरोना को हराने के लिए सुनसान पड़ा है इंदिरा मार्केट

रविवार को जनता कर्फ्यू से पहले सुबह 5 से 6 बजे के बीच मार्निंग वॉक करने वाले नागरिकों की संख्या न के बराबर रही। कई ऑक्सीजोन में तो इक्का दुक्का लोग ही नजर आए। राजधानी रायपुर में लगभग लॉक डाउन के हालात हैं। सड़कें पूरी तरह सूनी हैं। लोग अपने घर पर हैं। सड़क पर पुलिस के अलावा एकाध वाहन और पैदल चलने वाले लोग दिख रहे हैं।

शहर के मुख्य बाजार में इंदिरा प्रतिमा स्थल के आसपास पूरी तरह सन्नाटा

दुर्ग शहर में सुबह से पूरे बाजार में सन्नाटा छाया है। व्यस्ततम स्टेशन चौक, बस स्टैंड, पटेल चौक, पुराना बस स्टैंड, इंदिरा मार्केट, अग्रसेन चौक, चंडी चौक, रानी लक्ष्मीबाई चौक सहित अन्य प्रमुख स्थानों पर इक्का-दुक्का वाहन चालक ही सड़कों पर दिखे। पूछने पर लोगों ने दूध, मेडिसिन जैसी जरूरी सामग्री खरीदने के लिए बाहर निकलने की जानकारी दी। नेशनल हाईवे, जीई रोड पर सन्नाटा छाया है। यही हालात भिलाई टाउनशिप, सुपेला, पावर हाउस, भिलाई 3 की है। प्रदेश के अन्य शहरों में भी यही हाल है।

ये तस्वीरें भी देखिये

ये है दुर्ग रेलवे स्टेशन का नजारा … सन्नाटा… न ट्रेन… न यात्री … न किसी तरह की हलचल

ये है स्टील सिटी भिलाई का नजारा… हर समय यहां भारी भीड़ और चहल पहल रहती है … कोरोना को हराने के लिए सब बंद….

ये है वायशेप ब्रिज का सीन… संक्रामक वायरस से साइलेंट वार …